नई दिल्ली: ऐसी संभावना है कि भारतीय टीम का मौजूदा विश्व कप में अंतिम मैच महेंद्र सिंह धोनी के लिए भी आखिरी मुकाबला हो सकता है. क्योंकि चर्चा है कि अगर भारतीय टीम फाइनल्स के लिये क्वालीफाई करती है और लार्ड्स पर 14 जुलाई को विश्व कप में जीत हासिल करती है तो भारतीय क्रिकेट के महान क्रिकेटरों में से एक के लिये यह आदर्श विदाई होगी. ऐसे में भारत के पूर्व कप्तान एमएस धोनी को श्रीलंकाई दिग्गज लसिथ मलिंगा का समर्थन मिला. तेज गेंदबाज का मानना ​​है कि युवा पीढ़ी को जिम्मेदारी सौंपने से पहले एमएस धोनी को अभी एक या दो साल के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना चाहिए.

बता दें कि अफगानिस्तान के खिलाफ मैच के बाद, अफगानिस्तान के स्पिनरों के खिलाफ एमएस धोनी को संघर्ष करते देखकर बल्लेबाजी के मास्टर सचिन तेंदुलकर ने धोनी की आलोचना की थी. उन्होंने कहा था कि मुझे थोड़ी निराशा हुई, यह थोड़ा बेहतर हो सकता था. मैं केदार और धोनी के बीच भागीदारी से खुश नहीं था, यह बहुत धीमी थी. हमने 34 ओवर तक स्पिनरों के खिलाफ बल्लेबाजी की और 119 रन जुटाये. उन्होंने कहा था कि हम इस दौरान बिलकुल भी सहज नहीं दिखे. इसमें सकारात्मक इच्छाशक्ति की कमी थी.

महेंद्र सिंह धोनी का विदाई मैच हो सकता है भारत का विश्व कप में अंतिम मुकाबला

एमएस धोनी का अच्छा अनुभव
एमएस धोनी की आलोचना के बावजूद, मलिंगा का मानना ​​है कि भविष्य में कोई भी विकेटकीपर-बल्लेबाज धोनी जैसा नहीं हो पाएगा और मेन इन ब्लू की सफलता के पीछे धोनी के अपार अनुभव को भी श्रेय देगा. उन्होंने कहा कि “मुझे लगता है कि एमएस (धोनी) को एक या दो साल और खेलना चाहिए. वह पिछले 10 वर्षों में सर्वश्रेष्ठ फिनिशर हैं. मुझे नहीं लगता कि भविष्य में कोई भी उसे हरा सकता है. उसे सभी युवा खिलाड़ियों को अपने अनुभव और स्थिति को संभालना होगा. उन्हें (भारत) पिछले कप्तान एमएस धोनी का अच्छा अनुभव है.

India vs Bangladesh: सचिन तेंदुलकर बोले- धोनी ने वही किया जो टीम के लिए सही था

भारत और श्रीलंका का शनिवार को लीड्स में मुकाबला
बता दें कि भारत और श्रीलंका दोनों शनिवार को लीड्स में अपने लीग मैच में आमने-सामने होंगे. श्रीलंका पहले से ही सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर है, आठ मैचों में सिर्फ तीन जीत के साथ. वहीं दूसरी ओर, भारत मंगलवार को बांग्लादेश के खिलाफ 28 रन की जीत हासिल करने के बाद नॉकआउट चरण में है.