INDvsNZ Semi Final Live Updates ICC World Cup: मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफर्ड मैदान पर खेले जा रहे पहले सेमीफाइल में न्यूजीलैंड ने भारत को जीत के लिए 240 रनों का लक्ष्य दिया है. मंगलवार को अधूरे रह गए इस मैच में न्यूजीलैंड के खिलाड़ी बुधवार को केवल 28 रन ही जोड़ पाए. आज बचे हुए 23 गेंदों के खेल में उन्होंने 3 विकेट खोकर 28 रन बनाए. मैच दोबारा शुरू होने के कुछ ही देर बार कल लौटे दोनों खिलाड़ी आउट हो गए. रॉस टेलर रन आउट हुए, जबकि बुमराह ने टॉम लाथम को पवेलियन भेजा.

इससे पहले न्यूजीलैंड की टीम ने कल के स्कोर से आगे खेलना शुरू किया. मंगलवार को न्यूजीलैंड की टीम 46.1 ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 211 रन पर थी, तभी बारिश शुरू हो गई और मैच पूरा नहीं हो सका. आज न्यूजीलैंड को कुल 23 गेंदों का सामना करना था. इन 23 गेंदों में न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने तीन विकेट के नुकसान पर कुल 28 रन बनाए. इस तरह भारत के सामने 240 रनों का लक्ष्य खड़ा किया. भारत अगर 50 ओवरों के इस मैच में 240 रनों का टार्गेट हासिल कर लेता है तो वह विश्व कप फाइनल में चला जाएगा. जानकारों का कहना है कि ओल्ड ट्रेफर्ड की पिच काफी धीमी है. ऐसे में 240-250 का स्कोर किसी भी टीम के लिए सम्मानजनक कहलाएगा. दूसरी टीम को इतने स्कोर का पीछा करना भी कठिन हो सकता है.

इससे पहले न्यूजीलैंड ने इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था. न्यूजीलैंड की बल्लेबाजी मंगलवार को कुछ ज्यादा कमाल नहीं कर पाई. भारतीय गेंदबाजों की धारदार बॉलिंग के आगे कीवी टीम बेबस नजर आ रही थी. भारतीय गेंदबाजी आक्रमण की शुरुआत में ही जसप्रीत बुमराह ने मार्टिन गुप्टिल का विकेट लेकर भारतीय खेमे में उत्साह भर दिया. इसके बाद आए न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने हेनरी निकोलस के साथ कुछ देर टिक कर बल्लेबाजी की और अपनी टीम का स्कोर आगे बढ़ाया. विलियमसन ने धीमी शुरुआत के बाद रुककर खेलते हुए अपना अर्धशतक पूरा किया, लेकिन इस बीच रवींद्र जडेजा ने निकोलस को पवेलियन वापस भेज दिया.

इसके बाद युवा स्पिनर युजवेंद्र चहल ने विलियमसन को भी रवींद्र जडेजा के हाथों कैच करा पवेलियन भेज दिया. इस बीच भुवनेश्वर कुमार ने भी अपनी गेंदबाजी से न्यूजीलैंड का स्कोर थामे रखा. भुवी को भी बारिश के कारण मैच रोके जाने तक एक विकेट हासिल हुआ. अब अंतिम 4 ओवरों से कम का खेल बाकी है. इसमें न्यूजीलैंड के सामने सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने का दबाव है. हालांकि मैच के दौरान भारतीय टीम की खराब फील्डिंग के कारण भी विपक्षी खेमे की तरफ काफी रन जुड़े हैं.