लंदन: आईसीसी विश्व कप-2019 के पहले सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी को सीधे थ्रो से रन आउट कर मैच को न्यूजीलैंड के पक्ष में मोड़ने वाले मार्टिन गुप्टिल ने कहा है कि उनकी किस्मत थी कि डायरेक्ट हिट लगी. गुप्टिल का यह विश्व कप अच्छा नहीं रहा है और अब उनकी टीम को रविवार को लॉर्ड्स मैदान पर इंग्लैंड के साथ फाइनल खेलना है.

गुप्टिल ने न्यूजीलैंड के समाचार चैनल वन न्यूज से कहा, “जब गेंद बल्ले से लगी तो मुझे लगा कि यह हवा में गई है, इसलिए मैं हिला नहीं, लेकिन फिर मैंने सोचा कि मुझे आगे जाना होगा. मैं फिर दौड़ा और डायरेक्ट हिट लगी. ताबूत में आखिरी कील ठोकना काफी अच्छा होता है.”

इंडिया लौटते ही कप्तान कोहली और कोच शास्त्री की होगी पेशी, इन 5 तीखे सवालों के देने होंगे जवाब

हालांकि गुप्टिल ने माना कि बल्ले से बेहतर नहीं कर पाने का उन्हें मलाल है और इसलिए वो इस समय काफी निराश हैं. उन्होंने कहा, “यह काफी मुश्किल है. आप कोशिश करते हैं कि आप वो न पढ़ें जो लोग लिख रहे हैं और वो न सुनें जो लोग कह रहे हैं. लेकिन, इन सभी को दूर रखना मुश्किल है.”

उन्होंने कहा, “बीते कुछ मैचों से मुझे लग रहा था कि मैं गेंद पर देरी से आ रहा हूं. इस स्थिति का सामना करना मुश्किल है. आप ज्यादा जल्दी भी नहीं जा सकते, नहीं तो आप फंस जाते हैं.” सलामी बल्लेबाज ने कहा, “मैं जब से यहां आया हूं, तब के मुकाबले आखिरी कुछ दिन नेट्स में बिताने के बाद मुझे अब अच्छा लग रहा है. मैंने काफी मेहनत की लेकिन मैच में कुछ हो नहीं सका. यह बेहद निराशाजनक है. लोग कह सकते हैं कि वो मुझसे निराश हैं लेकिन कोई भी मुझसे ज्यादा निराश नहीं है.”