नई दिल्ली. इंग्लैंड के मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड ग्राउंड में चल रहे वर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड की टीम टॉस जीतकर बैटिंग कर रही है. लेकिन भारतीय गेंदबाजी के सामने इस टीम के सूरमा पानी भरते नजर आ रहे हैं. यही वजह है कि वर्ल्ड कप मुकाबले में बेहतरीन टीमों में से एक मानी जा रही न्यूजीलैंड ने भारत के खिलाफ मैच में ऐसा शर्मनाक रिकॉर्ड बनाया है, जो इस टीम के ऊपर एक दाग सरीखा है. न सिर्फ न्यूजीलैंड, बल्कि किसी भी देश की टीम नहीं चाहेगी कि उसके नाम ऐसा ‘दागदार’ रिकॉर्ड दर्ज हो. जी हां, भारत के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में उतरी न्यूजीलैंड की टीम को भारतीय गेंदबाजों ने एक-एक रन के लिए तरसा दिया है. कीवी टीम की शुरुआत इतनी धीमी रही है कि इसने पहले पावरप्ले यानी शुरुआती 10 ओवर में महज 27 रन ही बनाए हैं. इस बीच एक विकेट भी न्यूजीलैंड को गंवाना पड़ा है.

वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मुकाबले से पहले न्यूजीलैंड और भारत के बीच का लीग मैच बारिश के कारण धुल गया था. लेकिन टूर्नामेंट शुरू होने से पहले अभ्यास मैच में इस टीम ने भारत को हरा दिया था. ऐसे में क्रिकेट के जानकार मानकर चल रहे थे कि सेमीफाइनल में भी कीवी टीम ऐसा ही धमाकेदार खेल दिखाएगी. लेकिन टॉस हारने के बाद गेंदबाजी कर रही भारतीय टीम ने इसके बल्लेबाजों की कलई खोलकर रख दी. जसप्रीत बुमराह हों या भुवनेश्वर कुमार, इन दोनों की गेंदबाजी के आगे न्यूजीलैंड के बल्लेबाज पानी भरते नजर आए. और तो और जसप्रीत बुमराह ने अपने शुरुआती स्पेल में ही मार्टिन गुप्टिल को पवेलियन भेजकर टीम इंडिया के धारदार तेवर की झलक भी दिखा दी.

भारत के खिलाफ इस अहम मुकाबले में न्यूजीलैंड की टीम ने बेहद धीमी शुरुआत की है. मार्टिन गुप्टिल के आउट होने के बाद बल्लेबाजी कर रहे कप्तान केन विलियमसन और हेनरी निकोलस ने 10 ओवर में 27 रन बनाए. यह मौजूदा विश्व कप में पहले पावरप्ले (पहले 10 ओवर) में न्यूजीलैंड का सबसे कम रनों का रिकॉर्ड है. पावरप्ले के दौरान भारत की तरफ से भुवनेश्वर कुमार ने 5 और जसप्रीत बुमराह ने 4 ओवर किए. वहीं एक ओवर हार्दिक पांड्या ने किया. भुवनेश्वर और बुमराह की धारदार गेंदबाजी का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि दोनों ने इस दौरान एक-एक ओवर मेडन भी फेंका.