चेस्टर ली स्ट्रीट: खिताब की दौड़ से पहले ही बाहर हो चुके दक्षिण अफ्रीका ने शुक्रवार को यहां खेल के हर विभाग में अच्छा प्रदर्शन करके श्रीलंका को नौ विकेट से करारी शिकस्त देकर विश्व कप सेमीफाइनल में पहुंचने की उसकी उम्मीदों को गहरा झटका दिया. अपने तेज गेंदबाजों के उत्कृष्ट प्रदर्शन से श्रीलंका को कम स्कोर पर आउट करने के बाद दक्षिण अफ्रीका ने सलामी बल्लेबाज हाशिम अमला (105 गेंदों पर नाबाद 80) और कप्तान फाफ डुप्लेसिस (103 गेंदों पर नाबाद 96) की बड़ी अर्धशतकीय पारियों तथा इन दोनों के बीच 175 रन की अटूट साझेदारी की मदद से एक विकेट पर 206 रन बनाकर जीत हासिल की.

 

श्रीलंका का कोई भी बल्लेबाज अच्छी शुरुआत को बड़े स्कोर में नहीं बदल पाया. उसके आठ बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे लेकिन उच्चतम स्कोर 30 रन का रहा. इस वजह से उसकी टीम 49.3 ओवर में 203 रन सिमट गयी. दक्षिण अफ्रीका के लिये ड्वेन प्रिटोरियस ने दस ओवर में 25 रन देकर तीन विकेट लिये. क्रिस मौरिस (46 रन देकर तीन) और कैगिसो रबाडा (36 रन देकर दो) ने उनका अच्छा साथ दिया. दक्षिण अफ्रीका ने आठवें मैच में दूसरी जीत का स्वाद चखा. उसके अब पांच अंक हो गये हैं और इस मैच की तरह वह छह जुलाई को आस्ट्रेलिया के खिलाफ भी प्रतिष्ठा की खातिर मैदान पर उतरेगा. श्रीलंका की उम्मीदों को हालांकि हार से करारा झटका लगा है. उसके अब सात मैचों में छह अंक है तथा उसे आगे वेस्टइंडीज और भारत का सामना करना है. इन मैचों में जीत दर्ज करने पर भी वह अगर मगर के भंवर में फंसा रहेगा.

अमला पहली बार अपनी असली लय में दिखे. उन्होंने लेसिथ मलिंगा के पहले ओवर में दो चौके लगाकर शुरुआत की. उन्होंने टूर्नामेंट में अपना दूसरा और कुल 39वां अर्धशतक पूरा किया. अमला और क्विंटन डिकाक (15) ने सकारात्मक शुरुआत की लेकिन उनकी साझेदारी लंबी नहीं खिंच पायी. लेसिथ मलिंगा ने बेहतरीन यार्कर पर डिकाक का विकेट थर्राने में देर नहीं लगायी. दक्षिण अफ्रीका के सामने बड़ा लक्ष्य नहीं था और ऐसे में डुप्लेसिस ने भी संभलकर बल्लेबाजी करने को ही प्राथमिकता दी. उनके आते ही तिसारा परेरा को गेंद सौंपी गयी जिन्होंने उन्हें पांच बार आउट किया है लेकिन दक्षिण अफ्रीकी कप्तान पूरी प्रतिबद्धता के साथ क्रीज पर डटे रहे. उन्होंने अपना 35वां वनडे अर्धशतक पूरा करने के बाद पारी का पहला छक्का लगाया.

डुप्लेसिस ने जल्द ही अमला से आगे हो गये जिन्हें बीच में डीआरएस का फायदा भी मिला. डुप्लेसिस ने अपनी पारी में दस चौके और एक छक्का लगाया. अमला की पारी में पांच चौके शामिल हैं. पिछले सप्ताह इंग्लैंड को हराकर विश्व कप की सेमीफाइनल की दौड़ को रोचक बनाने वाले श्रीलंका के लिये आज शुरू से कुछ भी अच्छा नहीं रहा. पहले उसकी टीम टास हार गयी और उसके बाद उसने पहली गेंद पर कप्तान दिमुथ करूणारत्ने का विकेट गंवा दिया जिन्हें रबाडा ने दूसरी स्लिप में कैच कराया.

कुसाल परेरा (30) और अविष्का फर्नांडो (30) स्कोर एक विकेट पर 67 रन पर ले गये. प्रिटोरियस ने यहीं से श्रीलंका को तीन करारे झटके दिये. फर्नांडो ने दसवें ओवर में गलत टाइमिंग से शाट खेलकर अपना विकेट गंवाया जबकि कुसाल परेरा ने प्रिटोरियस की गेंद अपने विकेटों पर खेली जिससे स्कोर तीन विकेट पर 72 रन हो गया. श्रीलंकाई पारी को संवारने का जिम्मा अब कुसाल मेंडिस (23) और एंजेला मैथ्यूज (11) के कंधों पर था. प्रिटोरियस ने मैथ्यूज को ज्यादा देर तक नहीं टिकने दिया जबकि क्रिस मौरिस ने खतरनाक दिख रहे कुसाल मेंडिस की गिल्लयां बिखेरी. मौरिस ने जीवन मेंडिस (18) की पारी भी लंबी नहीं खिंचने दी.

इस बीच जेपी डुमिनी ने धनंजय डिसिल्वा (24) को बोल्ड किया जो रिवर्स स्वीप करने में चूक गये थे. तिसारा परेरा (21) ने स्ट्राइक रोटेट करने पर ध्यान दिया लेकिन जब उन्होंने एंडिल फेलुकवायो पर लंबा शाट खेलने की कोशिश की तो रबाडा ने सीमा रेखा पर शानदार कैच लेकर उनके इरादों पर पानी फेर दिया. इसुरू उदाना (17) दोहरे अंक में पहुंचने वाले श्रीलंका के आठवें बल्लेबाज थे.