नई दिल्ली. आईसीसी क्रिकेट विश्व कप (ICC World Cup 2019) का पहला सेमीफाइनल अब चंद घंटे दूर है. भारत और न्यूजीलैंड मंगलवार को इस मुकाबले में दो-दो हाथ करेंगे. विराट कोहली (Virat Kohli) ने मैच से एक दिन पहले सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और हर सवाल का खुलकर जवाब दिया. उन्होंने भारत के नंबर-4 की बल्लेबाजी से लेकर छठे गेंदबाज से जुड़े सवाल के जवाब दिए. लेकिन जब महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) का मामला आया तो उन्होंने जवाब देने से पहले सवाल पूछने वाले पत्रकार को थैंक्यू कहा.

भारत और न्यूजीलैंड के बीच मंगलवार को मैनचेस्टर में दोपहर तीन बजे (भारतीय समय) से मैच खेला जाएगा. विराट कोहली ने सोमवार को इसी मैच के सिलसिले में प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसी दौरान विराट ने बताया कि इस टूर्नामेंट में उन्होंने अपनी बैटिंग स्टाइल थोड़ी बदली हुई है. वे देर तक बैटिंग करना चाहते हैं, ताकि मिडिल-ऑर्डर के बल्लेबाजों के साथ पारी आगे बढ़ा सकें.

सेमीफाइनल में कोहली का यह ‘गेम-प्लान’ न्यूजीलैंड को पड़ेगा भारी, विराट ने खुद किया खुलासा

एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि वे एमएस धोनी की व्यक्तित्व से जुड़ा सवाल पूछना चाहते हैं. इस पर विराट ने मुस्कुराकर उन्हें थैक्यू कहा. फिर पत्रकार ने कहा कि वे किसी प्रेशर के बारे में सवाल नहीं कर रहे हैं. वे तो यह जानना चाहते हैं कि यह धोनी का आखिरी विश्व कप है. उनके रहने से टीम का ड्रेसिंग रूम का माहौल कैसा रहता है. क्या आप धोनी को ऐसी ही विदाई देना चाहते हैं, जैसा सचिन तेंदुलकर को 2011 में दिया था?

विराट कोहली ने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘देखिए मैं 2011 में बहुत जूनियर था. मैं तब ऐसी किसी विदाई के लिए तैयार नहीं था. लेकिन अगर आप आज किसी भी पूछेंगे तो उसके पास धोनी के बारे में कहने के लिए कुछ न कुछ खास होगा. हमने उनके नेतृत्व में अपने करियर की शुरुआत की है और यह अहसास आज भी नहीं बदला है. उन्होंने हमें मौका दिया, हम पर भरोसा जताया, जिसके लिए हम उनका हमेशा सम्मान करते हैं और करते रहेंगे.’

ICC World Cup 2019: सेमीफाइनल में रोहित शर्मा तोड़ सकते हैं सचिन के दो विश्व रिकॉर्ड

विराट ने आगे कहा, ‘धोनी ने टीम में ट्रांजेशन के दौर में बेहतरीन भूमिका निभाई. आज हम उस टीम का मुख्य हिस्सा हैं, जो इस दौर में लीड कर रहा है. वे कप्तान रहे हैं और अब मेरी कप्तानी में खेल रहे हैं. लेकिन उनके खेल से ऐसा कभी नहीं लगता है. वे मुझे फैसले लेने की आजादी देते हैं. साथ ही, जब भी मैं उनसे कुछ पूछने जाता हूं, तो तुरंत सलाह देते हैं. कुल मिलाकर वे ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनके बारे में आप जितना भी कहें, वह कम ही होगा.’