ICC World Cup: विश्वकप के फाइनल मुकाबले में इंग्लैंड को विजेता घोषित करने के आईआईसी के फैसले की आलोचना हो रही है. दरअसल, न्यूजीलैंड के साथ इंग्लैंड के मैच के दो बार टाई हो जाने के कारण आईसीसी ने पारी के दौरान अधिक चौके-छक्के लगाने के कारण इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया. इस तरह इंग्लैंड पहली बार विश्व कप विजेता बना गया.

आईसीसी के इस नियम की आलोचना करते हुए पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने कहा कि यह समझ से परे है कि इतने बड़े मुकाबले का फैसला इस तरह हुआ. इस मैच का फैसला अधिक चौके-छक्के लगाने के आधार पर हुआ. यह आईसीसी का एक बकवास नियम है. मैं दोनों टीमों को बधाई देना चाहता हूं. दोनों ने जबर्दस्त क्रिकेट खेला. दोनों इस खिताब के विजेता हैं.

पहले बल्लेबाजी करते हुए न्यूजीलैंड में निर्धारित 50 ओवर में 8 विकेट खोकर 241 रन बनाए. बदले में इंग्लैंड की टीम ने भी 50 ओवर में 241 रन ही बना सकी. इसके बाद मैच सुपरओवर में चला गया है. सुपरओवर में भी दोनों टीमों ने निर्धारित 15 रन बनाए. इसके बाद आईसीसी ने इस मैच का फैसला चौके-छक्के की संख्या के आधार पर किया. इसमें जिस टीम ने अधिक चौके-छक्के लगाए उन्हें विजेता घोषित किया गया. इस मैंच के 50 ओवर की पारी में इंग्लैंड ने 24 बाउंड्री लगाए थे जबकि न्यूजीलैंड ने केवल 16 बाउंड्री लगाए थे.

गौतम गंभीर की तरह उनके साथी और पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने भी इसकी आलोचना की. उन्होंने ट्वीट किया- मैं इस नियम से सहमत नहीं हूं! लेकिन नियम, नियम होता है. मैं विश्वकप खिताब जीतने के लिए इंग्लैंड की टीम को बधाई देता हूं. मैं न्यूजीलैंड की टीम को भी बधाई देता हूं, जिन्होंने शानदार क्रिकेट खेला.