लंदन: क्रिकेट का ‘मक्का’ कहा जाने वाला ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान विश्व क्रिकेट को एक नया चैंपियन देने के लिए तैयार है. यह नया चैंपियन मेजबान इंग्लैंड और न्यूजीलैंड में से कोई एक हो सकता है, जिन्हें आज यहां एक-दूसरे के खिलाफ आईसीसी विश्व कप-2019 का फाइनल खेलना है. इंग्लैंड की टीम 27 साल बाद फाइनल में पहुंची है. उसका यह चौथा फाइनल है. वह इससे पहले तीन बार फाइनल खेल चुकी है, लेकिन एक बार भी खिताब नहीं जीत पाई है. इस बार हालांकि उसे मेजबान होने के नाते खिताब का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है. इंग्लैंड ने मौजूदा चैंपियन आस्ट्रेलिया को आठ विकेट से करारी मात देकर फाइनल में कदम रखा है.Also Read - न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल में मैथ्यू वेड के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव की संभावना: एरोन फिंच

Also Read - ENG vs NZ Head to Head T20I Stats: इंग्‍लैंड की टीम का है बेहद शानदार रिकॉर्ड, जानें क्‍या कहते हैं आंकड़े ?

वहीं, किस्मत के सहारे सेमीफाइनल में पहुंची न्यूजीलैंड की टीम ने खिताब की दावेदार मानी जाने वाली भारत को रोमांचक मुकाबले में 18 रनों से हराकर दूसरी बार फाइनल में अपना स्थान पक्का किया है. कीवी टीम को 2015 के फाइनल में आस्ट्रेलिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा था. मेजबान होने के नाते इंग्लैंड को उसकी घरेलू परिस्थितियों का फायदा मिल सकता है, लेकिन कीवी कोच गैरी स्टीड यह पहले ही कह चुके हैं उनकी टीम छुपा रुस्तम साबित हो सकती है. Also Read - T20 World Cup 2021, ENG vs NZ, Practice Match: जोस बटलर ने तूफानी अंदाज में ठोके 73 रन, इंग्‍लैंड को दिलाई जीत

क्या आपकी टीम ‘अंडरडॉग’ है? न्यूजीलैंड के कप्तान बोले- हम कोई भी ‘डॉग’ हों, ध्यान क्रिकेट पर है

न्यूजीलैंड ने भारत को हराकर दिखा दिया है अनिश्चितताओं के इस खेल में कुछ भी निश्चित नहीं है. हालांकि टीम की सलामी जोड़ी के लगातार असफल होने की वजह से कप्तान केन विलियमसन और रॉस टेलर के कंधों पर रन बनाने की अतिरिक्त जिम्मेदारी आ गई है. पिछले विश्व कप में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज मार्टिन गुप्टिल ने इस बार निराश किया है. गुप्टिल अब अपने खराब फॉर्म को भुलाकर फाइनल में यादगार पारी खेलना चाहेंगे ताकि उनकी टीम पहली बार विश्व चैंपियन बनने के सपने को पूरा कर सके. हालांकि हालिया फॉर्म, लीग चरण का प्रदर्शन और घरेलू मैदान होने की वजह से इंग्लैंड का पलड़ा थोड़ा भारी लगता है लेकिन एक टीम के तौर पर न्यूजीलैंड को बड़े मुकाबलों में हल्के में नहीं लिया जा सकता है और यही कारण है कि मेजबान इंग्लैंड को फाइनल में न्यूजीलैंड से कड़ी टक्कर मिलने की उम्मीद है.

टीमें (संभावित)

इंग्लैंड: इयोन मोर्गन (कप्तान), मोइन अली, जोफ्रा आर्चर, जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), जोस बटलर, टॉम कुरैन, लियाम डॉसन, लियाम प्लंकट, आदिल राशिद, जोए रूट, बेन स्टोक्स, जेम्स विंस, क्रिस वोक्स, मार्क वुड.

न्यूजीलैंड: केन विलियम्सन (कप्तान), टॉम ब्लंडल, ट्रेंट बोल्ट, कोलिन डी ग्रांडहोम, लॉकी फग्र्यूसन, मार्टिन गुप्टिल, टॉम लाथम, कोलिन मनुरो, जिमी नीशम, हेनरी निकोलस, मिशेल सैंटनर, ईश सोढी, टिम साउदी, रॉस टेलर.