Icc World Cup 2019: विश्व कप के एक अहम मुकाबले में रविवार को इंग्लैंड के हाथों 31 रनों से हार झेलने वाली टीम इंडिया की सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हो रही है. मजेदार बात यह है कि क्रिकेट प्रेमी और जानकार भारत की हार नहीं, बल्कि इस पूरे मैच में टीम इंडिया की ‘नीयत’ पर सवाल उठा रहे हैं. क्रिकेट प्रेमियों को लगता है कि इंग्लैंड की ओर से दिए गए 338 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया शुरू से ही इस मैच को जीतने की नीयत से नहीं खेल रही थी.

338 रनों के एक बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया ने पहले तो बेहद धीमी शुरुआत की. उसके बाद उसने अंतिम ओवरों में जैसी आक्रमकता दिखानी चाहिए थी वैसी तेजी नहीं दिखाई. दुनिया के बेस्ट फिनिशर माने जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी एक फिर सवालों में घिरते दिखे. हालांकि उन्होंने 31 गेंदों पर 42 रनों की पारी खेली, लेकिन उनसे इससे कहीं अधिक की उम्मीद की जा रही थी.

भारत को मैच जितने के लिए अंतिम पांच ओवर में 71 रन बनाने थे. धोनी के साथ पिच पर हार्दिक पांड्या थे. हालांकि, उन्होंने तेजे से कुछ रन बटोरे लेकिन क्रिकेट प्रेमियों को जैसी उम्मीद थी वैसा प्रदर्शन इन दोनों ने नहीं किया. अंतिम के पांच ओवर की 30 गेंद पर इन दोनों ने केवल तीन चौके और एक छक्के लगाए.

दरअसल, इस मैच में टीम इंडिया शुरुआत से ही बैकफुट पर नजर आ रही थी. पारी की शुरुआत करने आए केएल राहुल नौ गेंदों पर शून्य रन बनाकर आउट हुए. उसके बाद रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली जैसे बल्लेबाज एक-एक रन के लिए संघर्ष करते दिखे. आप इसी से अनुमान लगा सकते हैं कि टीम इंडिया 10 ओवर की समाप्ति पर एक विकेट खोकर केवल 28 रन ही बना सकी थी. इसी आधार पर क्रिकेट फैन्स और जानकार कह रहे हैं कि ऐसा कभी नहीं लगा कि टीम इंडिया इस मैच को जीतने के लिए खेल रही है.