भारतीय क्रिकेट फैंस को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें सीजन को बेसब्री से इंतजार था क्योंकि इस टूर्नामेंट के जरिए दिग्गज क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) का टीम इंडिया में भविष्य तय होना था। हालांकि पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) का ऐसा नहीं मानना है। Also Read - COVID 19 Cases In India: 1 दिन में 53 हजार से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमित, 1,422 लोगों की हुई मौत

मशहूर कमेंटेटर चोपड़ा का कहना है कि आईपीएल में धोनी का प्रदर्शन उनके भारतीय टी20 स्क्वाड में शामिल होने या ना होने का फैसला नहीं करता। उन्होंने कहा, “ये बहुत बड़ी गलतफहमी है कि टीम इंडिया में धोनी की वापसी उनके आईपीएल प्रदर्शन पर निर्भर है।” Also Read - Covid 19 Vaccine: 18 साल से अधिक की आयु वालों को मुफ्त में लगेगी कोरोना की वैक्सीन, क्या करें-क्या न करें, यहां जानें

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “अगर हम धोनी और बतौर खिलाड़ी उनके द्वारा हासिल की गई उपलब्धियों को इस नजरिए से देखेंगे तो फिर मुझे लगता है कि आप गलत दरवाजा खटखटा रहे हैं क्योंकि वो गलत है।” Also Read - International Yoga Day 2021 Live: योगमय देश-दुनिया, ऐसे मनाया जा रहा 7वां योग डे

फिर कभी टीम इंडिया की जर्सी में नहीं दिखेंगे धोनी

चोपड़ा का मानना है कि धोनी भारतीय टीम के लिए फिर से खेलना चाहते हैं और अगर टीम मैनेजमेंट भी उन्हें वापस चाहता है तो ऐसा होगा।

उन्होंने कहा, “देखिए, अगर टीम उन्हें खिलाना चाहती है तो ऐसा होगा लेकिन अगर इस साल आईपीएल नहीं होता है तो फिर टी20 विश्व कप भी नहीं होगा। जाहिर है कि उसकी उम्र एक और साल बढ़ जाएगी और वो 18 महीनों के लिए क्रिकेट से दूर हो चुका होगा, तो फिर आप ये अनुमान लगा सकते हैं कि आप उसे फिर से भारत के लिए खेलते नहीं देख पाएंगे।”

खाली स्टेडियम में आयोजित हो सकता है IPL

हालांकि पूर्व भारतीय बल्लेबाज ये भी मानते हैं कि आईपीएल का आयोजन इंडोर पिचों पर या बिना दर्शकों के खाली स्टेडियम में कराया जा सकता है।

उन्होंने कहा, “ये एक अनुमान है क्योंकि हमें नहीं पता कि दुनिया आगे क्या करेगी। ये कोविड-19 महामारी अब भी बढ़ रही है। आईपीएल जैसे टूर्नामेंट के लिए, आपको खिलाड़ियों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होगी। और मेरे ख्याल से खाली स्टेडियम में टूर्नामेंट का आयोजन कराना टूर्नामेंट रद्द करने से बेहतर होगा।”