नई दिल्ली. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने विराट कोहली का शैम्पेन की बोतलों से स्वागत करने का मन बनाया है. सचिन ने कहा है कि अगर विराट उनके सर्वाधिक वनडे शतकों का रिकॉर्ड तोड़ देते हैं तो वो उनके साथ शैम्पेन शेयर करेंगे. सचिन ने ये बात वर्ल्ड बुक डे के मौके पर मुंबई में ‘इलेवन गॉड एंड अ बिवियन इंडियंस’ नाम के किताब को लॉन्च करते हुए कही.

 

बुक लॉन्च के मौके पर सचिन से पूछा गया कि अगर विराट कोहली उनके वनडे शतक के रिकॉर्ड को तोड़ देते हैं तो क्या वो शैम्पेन की 50 बोतलें कोहली को भिजवाएंगे. इस सवाल के जवाब में मास्टर ने कहा, ” नहीं… अगर वो रिकॉर्ड तोड़ता है तो मैं खुद उसके पास शैम्पेन की बोतल लेकर जाऊंगा और उसके साथ शेयर करूंगा.’

सचिन के रिकॉर्ड पर ‘विराट’ नजर

वनडे क्रिकेट में सचिन के नाम 49 शतक दर्ज हैं. जबकि, विराट अब तक 35 वनडे शतक जमा चुके हैं. यानी, सचिन का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए उन्हें अब बस 15 शतकों की और दरकार है. विराट क्रिकेट के वनडे फॉर्मेट के नंबर बल्लेबाज हैं और जिस तरह की बल्लेबाजी वो कर रहे हैं उसे देखते हुए क्रिकेट पंडितों का ये मानना है कि बहुत जल्द सचिन के सर्वाधिक शतकों का रिकॉर्ड उनके नाम होगा.

सचिन को देखकर शुरू हुआ क्रिकेट का सफर

विराट कोहली भी कई दफा ये कह चुके हैं कि सचिन तेंदुलकर को देखकर ही उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया और अपने करियर नया आयाम दिया. 2008 में जब पहली बार वो ड्रेसिंग रूम में दाखिल हुए थे, तब सबसे पहले उनका सामना सचिन से ही हुआ था. सालों तक साथ खेलने के बाद दोनों के बीच काफी करीबी रिश्ता और आपसी सम्मान बढ़ता चला गया.

हैप्पी बर्थडे : सचिन तेंदुलकर के ये 3 तेवर देखकर आप भी कहेंगे-  'कमाल हैं मास्टर'

हैप्पी बर्थडे : सचिन तेंदुलकर के ये 3 तेवर देखकर आप भी कहेंगे- 'कमाल हैं मास्टर'

‘इलेवन गॉड एंड अ बिवियन इंडियंस’ बुक के कोलकाता लॉन्च के दौरान कोहली ने कहा था कि मैं अपने करियर पर सचिन तेंदुलकर के प्रभाव को समझता हूं. उन्होंने कहा था, ” मेरे करियर में करीबी लोग बेहद कम हैं. ये सिर्फ एक जिंदगी थी जो चलती ही चली गई क्योंकि ये स्वाभाविक है कि जब कोई मेरे कठिन समय में मेरे साथ खड़ा होगा तो मैं उस इंसान को महत्व दूंगा और मैं ऐसा हमेशा करता रहूंगा.”

विराट ने कहा था, ‘अगर कोई आपको तरह प्रभावित कर सकता है, तो इससे बड़ी खुशी आपके लिए हो नहीं सकती. उस प्रभाव को आप महसूस करते हैं. इसलिए जब आप तेंदुलकर का हाथ अपने सिर पर पाते हैं तो आप सिर्फ इशारों में ही धन्यवाद दे पाते हैं क्योंकि आज मैं जो कुछ कर रहा हूं वो उन्हीं की प्रेरणा से कर पा रहा हूं.

बता दें कि जब 2014 इंग्लैंड दौरे पर कोहली बेहद खराब फॉर्म से जूझ रहे थे तब उन्होंने सचिन से मदद ली थी. कुछ ही समय के बाद कोहली ने ऑस्ट्रेलिया में रनों की बारिश की और 4 टेस्ट में 4 शतक जमाए. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और जो वो आज है वो पूरी दुनिया के सामने हैं.