इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच ग्राहम थोर्प (Graham Thorpe) ने कहा है कि अगर उनकी टीम को आगामी टेस्ट सीरीज में जीत हासिल करनी है तो उन्हें विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय टीम को दबाव में रखना है तो उनके गेंदबाजों को मेजबान देश के बल्लेबाजों को लगातार अच्छी गेंदबाजी करनी होगी।Also Read - आपके पीछे काफी लोग खड़े हैं... Sachin Tendulkar ने किया Rohit Sharma-Rahul Dravid को सपोर्ट

जब थोर्प से पूछा गया कि क्या जेम्स एंडरसन की अगुवाई वाले गेंदबाजी अटैक ने भारतीय कप्तान के लिए कोई खास रणनीति बनाई है, इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा, ‘‘हम जानते हैं कि वो बेहतरीन खिलाड़ी है और पिछले कई सालों से उसने ये दिखाया है। भारतीय बल्लेबाजी क्रम घरेलू परिस्थितियों की अच्छी समझ रखता है और विराट उनमें से एक है।’’ Also Read - IND vs WI: बिना फिटनेस टेस्‍ट के Kuldeep Yadav को मिला मौका, भज्‍जी बोले- राहें नहीं आसान

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे गेंदबाजी अटैक के लिए ये महत्वपूर्ण होगा कि वे जितना संभव हो उतनी सर्वश्रेष्ठ गेंदें करें। मुझे नहीं लगता कि हमें अपने स्पिनरों और तेज गेंदबाजों से इससे अधिक उम्मीद करनी चाहिए। हमें अच्छा स्कोर बनाने की जरूरत है और फिर भारतीय बल्लेबाजों को दबाव में लाना हमारे लिये महत्वपूर्ण होगा।’’ Also Read - ...वो पहले की तरह लापरवाह नहीं रहा, नंबर-6 पर इस खिलाड़ी को देखना चाहते हैं दिनेश कार्तिक

भारतीय गेंदबाजी अब स्पिनरों के भरोसे पर निर्भर नहीं है जो धीमी पिचों पर अपना जादू बिखेरते रहे हैं तथा थोर्प ने कहा कि वे मेजबान टीम के वर्तमान आक्रमण से अच्छी तरह अवगत हैं। उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय गेंदबाजी अटैक अब केवल स्पिन पर निर्भर नहीं है। मुझे लगता है कि उनका तेज गेंदबाजी अटैक भी मजबूत है और इस दृष्टि से केवल स्पिन विभाग पर ही ध्यान केंद्रित नहीं किया जा सकता है।’’

जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) और रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) से मिलने वाली चुनौती कड़ी होगी लेकिन इंग्लैंड के बल्लेबाजी कोच समझते हैं कि इसके लिए संतुलन तैयार करने की जरूरत है। थोर्प ने कहा, ‘‘भारतीय गेंदबाजी बहुत अच्छे अटैक के रूप में विकसित हुई है और हम इससे अच्छी तरह से वाकिफ हैं। जब आप उपमहाद्वीप का दौरा करते हो तो आपको स्पिन से निबटना होता है। हम भारतीय अटैक के प्रति सतर्क हैं। अभ्यास के दिनों का उपयोग दोनों (तेज और स्पिन) में संतुलन पैदा करने के लिए किया जाएगा।’’

बायें हाथ के ये पूर्व बल्लेबाज जानता है कि उनके कुछ बल्लेबाज इससे पहले उपमहाद्वीप में नहीं खेले हैं और चार टेस्ट मैचों की सीरीज से उन्हें अच्छी सीख मिलेगी। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे कुछ खिलाड़ी उपमहाद्वीप में नहीं खेले हैं लेकिन वे कड़ी मेहनत कर रहे हैं और उम्मीद है कि अच्छा प्रदर्शन करेंगे। इनमें से कुछ खिलाड़ियों को इससे अच्छी सीख मिलेगी।’’

थोर्प के अनुसार हाल में ऑस्ट्रेलिया को उसकी धरती पर हराने वाली भारतीय टीम का सामना करने से बड़ी कोई चुनौती नहीं हो सकती।उन्होंने कहा, ‘‘भारत का उसकी सरजमीं पर सामना करना वास्तविक चुनौती है। वे बहुत अच्छी क्रिकेट खेल रहे हैं और अपनी पिचों पर वो बेहद मजबूत टीम है। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में भी शानदार वापसी करके जीत दर्ज की। इसलिए ये हमारे लिए वास्तविक चुनौती है।’’