पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) का मानना है कि वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) के दौर में खेलने वाले पाकिस्तानी खिलाड़ी इमरान नजीर (Imran Nazeer) इस आक्रामक भारतीय सलामी बल्लेबाज से ज्यादा प्रतिभाशाली थे लेकिन ज्यादा समझदार नहीं थे और साथ ही उन्हें देश के क्रिकेट प्रशासन से भी सहयोग नहीं मिला। Also Read - वीरेंद्र सहवाग ने किया कुछ ऐसा काम, भज्‍जी ने भी कहा- शाबाश लाला

अख्तर को लगता है कि पाकिस्तान ने नजीर की प्रतिभा की कद्र नहीं की। उन्होंने स्थानीय मीडिया से कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि इमरान नजीर उतने समझदार थे जितने सहवाग। मुझे नहीं लगता कि सहवाग में इतनी प्रतिभा थी, जितनी नजीर में थी। प्रतिभा के मामले में कोई तुलना नहीं हो सकती। जब उसने भारत के खिलाफ एक अभ्यास मैच में आक्रामक शतक लगाया था तो मैंने इमरान नजीर को लगातार खिलाने की बात कही लेकिन प्रशासन ने बात नहीं सुनी।’’ Also Read - शोएब अख्तर ने कहा- कट या पुल शॉट नहीं खेल पाते हैं विराट कोहली

नजीर ने पाकिस्तान के लिए केवल आठ टेस्ट मैच खेले और उनमें 427 रन बनाए जबकि 79 वनडे में उन्होंने देश के लिए 1895 रन जोड़े। वहीं सहवाग ने भारत के लिए 104 टेस्ट में 8586 रन और 251 वनडे में 8273 रन बनाए। Also Read - ICC पर भड़के शोएब अख्‍तर, बोले- पिछले 10 सालों में टेस्‍ट क्रिकेट को किया बर्बाद

रावलपिंडी एक्सप्रेस ने पाकिस्तान क्रिकेट अधिकारियों की आलोचना करते हुए कहा कि उनके पास जो खिलाड़ी थे, उनकी उन्होंने ठीक से कद्र नहीं की।

अख्तर ने कहा, ‘‘ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि हम नहीं जानते कि अपनी प्रतिभाओं का ख्याल कैसे रखा जाए। हमारे पास इमरान नजीर के रूप से वीरेंदर सहवाग से ज्यादा बेहतर खिलाड़ी हो सकता था। वो सभी शॉट बेहतरीन तरीके से खेलता था जबकि एक अच्छा फील्डर भी था। हम उसका अच्छी तरह इस्तेमाल कर सकते थे लेकिन हम ऐसा नहीं कर सके।’’

उन्होंने कहा कि नजीर के करियर में पूर्व महान बल्लेबाज जावेद मियांदाद ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने कहा, ‘‘जब भी इमरान नजीर अच्छा खेलता, तो ये जावेद मियांदाद की वजह से होता। जब भी वो खराब शॉट खेलता तो जावेद भाई उसे संदेश भेजते।’’