दक्षिण अफ्रीका की ओर से इंटरनेशनल क्रिकेट खेल रहे पाकिस्तानी मूल के अनुभवी लेग स्पिनर इमरान ताहिर को पाक के लिए नहीं खेलने का मलाल आज भी है. ताहिर पाकिस्तान के लाहौर में पले-बढ़े हैं और 2005 तक इसी शहर में रहे. वह पाकिस्तान की अंडर-19 टीम के लिए भी खेले और पाकिस्तान-ए का प्रतिनिधित्व भी किया, लेकिन सीनियर टीम के लिए नहीं खेल पाए. Also Read - जम्मू-कश्मीर में नेताओं पर बढ़े हमले पाकिस्तान की हताशा: भाजपा

वह 2005 में दक्षिण अफ्रीका आने का श्रेय अपनी पत्नी सुमय्या दिलदार को देते हैं. देश में चार साल रहने के कानून का पालन करने के बाद ताहिर दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलने के योग्य बने थे. Also Read - मैनचेस्टर टेस्ट: बटलर-वोक्स की जोड़ी ने कैसे पाकिस्तान के मुंह से छीनी जीत

‘मुझे पाक की राष्ट्रीय टीम में खेलने का मौका नहीं मिला’ Also Read - इंडियन आर्मी ने पीओके की लीपा वैली में आतंकी लॉन्‍चपैड तबाह किया? वीडियो-फोटो हुए वायरल

ताहिर ने जियो सुपर से कहा, ‘मैं लाहौर में क्रिकेट खेला करता था और आज मैं जहां हूं इसमें इसका बड़ा हाथ रहा है. मैंने अपने करियर की काफी सारी क्रिकेट पाकिस्तान में खेली लेकिन मुझे यहां राष्ट्रीय टीम में खेलने का मौका नहीं मिला जिससे मैं काफी निराश हूं. पाकिस्तान छोड़ने का फैसला करना काफी मुश्किल था लेकिन अल्लाह ने मुझ पर कृपा बनाए रखी और दक्षिण अफ्रीका आने का श्रेय मेरी पत्नी को जाता है.’

दक्षिण अफ्रीका के लिए 107 वनडे खेले

ताहिर ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 107 वनडे, 38 टी-20 और 20 टेस्ट मैच खेले हैं और क्रमश: 173, 63 और 57 विकेट अपने नाम किए हैं. पिछले साल आईसीसी विश्व कप के बाद उन्होंने वनडे करियर को अलविदा कह दिया था.