काडर्फि। पाकिस्तान के खिलाफ आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी के पहले सेमीफाइनल में बुधवार को इंग्लैंड का पलड़ा पाकिस्तान पर भारी होगा और उसकी नजरें 50 ओवरों में अपने पहले आईसीसी खिताब की ओर अगला कदम बढाने पर होगी. तीन बार विश्व कप फाइनल खेल चुका इंग्लैंड पिछले 42 साल में 50 ओवरों के क्रिकेट का कोई खिताब नहीं जीत सका है.Also Read - कोविड-19 के नए वेरियंट की वजह से ICC ने रद्द किया महिला विश्व कप क्वालिफायर

कप्तान ईयोन मोर्गन की टीम काफी संतुलित है और इस बार खिताब की प्रबल दावेदार भी मानी जा रही है. दूसरी ओर पहले मैच में भारत से हारने के बाद पाकिस्तान ने अच्छी वापसी की. दूसरी ओर आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में 2015 में हुए विश्व कप से पहले दौर में बाहर होने के बाद इंग्लैंड ने अपने प्रदर्शन में जबर्दस्त सुधार किया है. Also Read - Shoaib Akhtar को बड़ी राहत, एंकर से बदसलूकी मामले पर PTV ने कानूनी नोटिस वापस लिया

उसने पिछले साल अपनी सरजमीं पर पाकिस्तान को एक दिवसीय श्रृंखला में 4 . 1 से हराया जिसमें टेंट ब्रिज में विश्व रिकार्ड 444 रन का स्कोर शामिल है. बेन स्टोक्स के रूप में इंग्लैंड के पास दुनिया के सर्वश्रेष्ठ हरफनमौलाओं में से एक है जो गेंद और बल्ले दोनों से किसी भी टीम की बखिया उधेड़ सकता है. यही वजह है कि आईपीएल में वह 20 लाख डालर से अधिक दाम में बिके. Also Read - अफगानिस्तान को पाकिस्तान के रास्ते मानवीय सहायता पहुंचाएगा भारत, विदेश मंत्रालय ने कहा- रोडमैप तैयार कर रहे हैं

जो रूट भी विश्व स्तरीय बल्लेबाज हैं और फॉर्म में हैं. मध्यक्रम में मोर्गन और जोस बटलर हैं जबकि सलामी बल्लेबाज एलेक्स हेल्स और जासन रे शीर्ष क्रम में अच्छी शुरूआत दे रहे हैं. तेज गेंदबाजों जैक बाल और लियाम प्लंकेट का प्रदर्शन् भी अच्छा रहा है जबकि मार्क वुड ने स्टाइक गेंदबाज के रूप में कप्तान मोर्गन के भरोसे को सही साबित किया है.

टखने के तीन ऑपरेशन के बाद वुड टीम में लौटे हैं लेकिन उनकी रफ्तार जस की तस है. अभी तक इंग्लैंड टूर्नामेंट की सर्वश्रेष्ठ टीम रही है और एक भी मैच हारा नहीं है. दूसरी ओर पाकिस्तान ने कप्तान सरफराज अहमद की पारी के दम पर श्रीलंका को तीन विकेटसे हराया जिससे उसका मनोबल बढा होगा. इस हार के लिये हालांकि श्रीलंका खुद दोषी रहा जिसने बेहद लचर फील्डिंग का प्रदर्शन किया.

सलामी बल्लेबाज फखर जमान ने भी श्रीलंका के खिलाफ 36 गेंद में 50 रन बनाये लेकिन मध्यक्रम के बल्लेबाजों का प्रदर्शन चिंता का सबब होगा. गेंदबाजी में तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर, जुनैद खान, हसन अली और फहीम खान ने प्रभावित किया.