जीत के रथ पर सवार भारतीय टीम गुरुवार से शुरू हो रहे दूसरे क्रिकेट टेस्ट में उतरेगी तो उसका इरादा इस लय को कायम रखते हुए सीरीज जीतने का होगा जबकि दक्षिण अफ्रीका शर्मनाक हार के गम को भुलाकर श्रृंखला में अपना अस्तित्व बनाए रखने उतरेगा. Also Read - IND vs ENG: आज होगा पहले दो टेस्‍ट की टीम का ऐलान, इन चोटिल क्रिकेटर्स के खेलने पर सस्‍पेंस

Also Read - IND vs AUS: ब्रिसबेन टेस्ट में जीत चाहे भारत, इन 8 खिलाड़ियों से है 'आखिरी उम्मीद'

World women’s Boxing Championships: लवलीना और जमुना बोरो क्वार्टर फाइनल में, पदक से एक जीत दूर Also Read - India vs Australia: Steve Smith ने बताया- ब्रिसबेन में भारत को रोकने की क्या है रणनीति!

विशाखापत्तनम में पहले टेस्ट में विराट कोहली की टीम ने 203 रन से जीत दर्ज की. अब पुणे में ही श्रृंखला अपने नाम करने के लिए वे कोई कोताही बरतना नहीं चाहेंगे.

लगभग ‘परफेक्ट’ प्रदर्शन में सुधार की गुंजाइश नहीं रहती लेकिन कोहली हर बार एक नयी चुनौती तलाश लेते हैं. भले ही सामना ऐसी टीम से है जो लगातार पांच दिन चुनौती देने की स्थिति में नहीं है.

रोहित ने पहले टेस्ट में दो शतक जबकि मयंक ने दोहरा शतक जड़ा था

रोहित शर्मा ने लगातार दो शतक जमाकर टेस्ट क्रिकेट में एक बेहतरीन सलामी बल्लेबाज के रूप में उभरने के संकेत दिये हैं. मयंक अग्रवाल भी हर मौके को भुनाने के फन में माहिर हैं. विशाखापत्तनम में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला दोहरा शतक जड़ा जिससे कम से कम घरेलू हालात में तो भारत की शीर्षक्रम की समस्या सुलझाती नजर आ रही है.

भारत को इसके बाद बांग्लादेश से भी दो टेस्ट खेलने हैं. रोहित और मयंक के अलावा भारत के पास कोहली, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी जैसे बल्लेबाज भी हैं.

स्पिनरों की मददगार रही है पिच

इसी मैदान पर पिछली बार 2017 में स्पिनरों की मददगार पिच पर ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लियोन ने भारतीय बल्लेबाजों की हालत खस्ता कर दी थी.

उस तरह की पिच मिलने की संभावना हालांकि इस बार नहीं है. क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर यदि उससे मिलती-जुलती पिच बनाते भी हैं तो भारत के पास आर अश्विन और रविंद्र जडेजा के रूप में विश्व स्तरीय स्पिनर हैं.

स्टीव स्मिथ के प्रदर्शन को दोहरा पाना मुश्किल

पहले टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका के लिये डीन एल्गर और क्विंटन डि कॉक ने भले ही शतक जमाया लेकिन 2017 में जिस तरह स्टीव स्मिथ ने यहां बल्लेबाजी की थी, उसे दोहरा पाना संभव नहीं है. पिछले मैच में आठ विकेट लेने वाले अश्विन और हरफनमौला प्रदर्शन में माहिर जडेजा से पार पाना दक्षिण अफ्रीका के लिये टेढी खीर साबित हो रहा है .

इसके अलावा धीमे विकेटों पर नयी और पुरानी गेंद से मोहम्मद शमी का शानदार प्रदर्शन भी भारत के पक्ष में रहा है. इशांत शर्मा ने भी उनका बखूबी साथ दिया. दोनों का तालमेल ऐसा था कि जसप्रीत बुमराह की कमी महसूस नहीं हुई.

कप्तान विराट कोहली बोले- कुलदीप यादव को पता है कि वो बाहर क्यों हैं

फिटनेस समस्या नहीं होने पर भारतीय अंतिम एकादश में बदलाव की उम्मीद कम है. दक्षिण अफ्रीका जरूर सेनुरान मुथुस्वामी और डेन पीट में से एक को बाहर कर सकता है . दोनों की रोहित ने जमकर धुनाई करके रिकार्ड 13 छक्के जड़े थे.

मुथुस्वामी के बाहर होने पर जुबैर हमजा को जगह मिल सकती है . वहीं पीट बाहर होते हैं तो लुंगी एंगिडी टीम में शामिल हो सकते हैं.

टीमें :

भारत :

विराट कोहली (कप्तान), मयंक अग्रवाल, रोहित शर्मा, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, हनुमा विहारी, रिषभ पंत, रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, इशांत शर्मा और शुभमन गिल.

दक्षिण अफ्रीका:

फाफ डु प्लेसिस (कप्तान), तेम्बा बावुमा, थ्युनिस डि ब्रुयिन, क्विंटन डी कॉक, डीन एल्गर, जुबैर हमजा, केशव महाराज, एडन मार्कराम, सेनुरन मुथुसामी, लुंगी एंगिडी, एनिरक नोर्त्जे, वर्नोन फिलेंडर, डेन पीट, कगीसो रबाडा और रूडी सेकेंड.