दक्षिण अफ्रीका के पुछल्ले बल्लेबाजों केशव महाराज (72) और वर्नोन फिलेंडर (नाबाद 44) की जूझारू पारी के बावजूद भारतीय क्रिकेट टीम पुणे टेस्ट मैच के तीसरे दिन बढ़त लेने में सफल रही. Also Read - T Natarajan ने बताई सच्‍चाई, कहा- मिशेल स्‍टार्क की तेज गेंद तो मुझे नजर भी नहीं आ रही थी

Also Read - R Ashwin ले सकते हैं 800 टेस्ट विकेट, Lyon उतने काबिल नहीं: Muthaiya Muralitharan

World Women’s Boxing Championships 2019: मंजू ने फाइनल का टिकट कटाया Also Read - IND vs AUS: कप्तान टिम पेन ने कहा- गावस्कर जो चाहें कह सकते हैं, हमें फर्क नहीं पड़ता

फाफ डु प्लेसिस की अगुवाई वाली टीम 275 रन पर ढेर हो गई. इस तरह मेजबान भारतीय टीम 326 रन की भारी बढ़त लेने में सफल रही. टीम इंडिया पहली पारी 5 विकेट पर 601 रन बनाकर घोषित की थी.

फिलेंडर और महाराज ने 9वें विकेट पर 119 रन जोड़े

फिलेंडर और चोटिल महाराज ने 9वें विकेट के लिए 119 रन की साझेदारी की. फिलेंडर 44 रन बनाकर नाबाद रहे जबकि महाराज ने 72 रन बनाए. दोनों ने संभलकर खेलते हुए ढीली गेंदों पर ही रन लिए. दोनों जिस समय क्रीज पर आए, दक्षिण अफ्रीका का स्कोर आठ विकेट पर 152 रन था. दोनों 43 .1 ओवर तक क्रीज पर डटे रहे.

भारत के लिए रविचंद्रन अश्विन ने सबसे अधिक 4 विकेट लिए. जबकि रविंद्र जडेजा के खाते में एक विकेट गया.

महाराज ने अपनी अर्धशतकीय पारी में 12 चौके लगाए लेकिन वह कंधे पर लगी चोट के कारण कराहते दिखे. आखिर में अश्विन की गेंद पर वह लेग स्लिप में रोहित शर्मा को कैच देकर लौटे.

सुबह साहा का कैच आकर्षण का केंद्र रहा

सुबह के सत्र में मोहम्मद शमी का शानदार स्पैल और रिद्धिमान साहा का दर्शनीय कैच आकर्षण का केंद्र रहा. इसके बाद स्पिनरों ने कमान संभाली.

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस (64) और क्विंटन डी कॉक (31) पारी को संवारने की कोशिश में लगे थे. दोनों के बीच 75 रन की साझेदारी को रविचंद्रन अश्विन ने तोड़ा जब डिकाक उनकी गेंद पर आउट हुए.

शमी ने सुबह के सत्र में 10 ओवर में 28 रन देकर दो विकेट लिये जबकि उमेश यादव अब तक आठ ओवर में 27 रन देकर तीन विकेट ले चुके हैं . बल्लेबाजों की मददगार लग रही पिच पर दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी जूझते नजर आए.

एनरिक नोर्त्जे शुरू ही से असहज लग रहे थे. भारतीय कप्तान विराट कोहली ने उनके लिए आक्रामक फील्ड लगाते हुए स्लिप में चार और गली में एक फील्डर लगाया. शमी की गेंद पर नोर्त्जे चौथी स्लिप में कोहली को कैच देकर लौटे.

Dutch Open 2019 : शटलर लक्ष्य सेन ने 37 मिनट में कटाया सेमीफाइनल का टिकट

थ्यूनिस डि ब्रून (30) ने कुछ अच्छे कवर ड्राइव लगाए लेकिन साहा के दर्शनीय कैच ने उनका पारी का अंत किया. यादव की गेंद पर उन्होंने बल्ला अड़ाया और विकेटकीपर साहा ने पहली स्लिप की ओर डाइव लगाते हुए उनका कैच लपका.

डु प्लेसिस और डी कॉक ने समझदारी से बल्लेबाजी की. डु प्लेसिस ने अपनी पारी में दस चौके और एक छक्का लगाया जबकि डी कॉक ने सात बार गेंद को सीमारेखा तक पहुंचाया.

लंच के बाद सेनुरान मुथुस्वामी सात रन बनाकर जडेजा की गेंद पर एलबीडब्ल्यू आउट हो गए. वहीं अश्विन ने डु प्लेसिस को पहली स्लिप में अजिंक्य रहाणे के हाथों लपकवाया.