India vs Australia 2nd Odi: ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 मैचों की सीरीज के पहले वनडे इंटरनेशनल मैच में भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) का टॉप आर्डर चला जरूर लेकिन उम्मीद के मुताबिक दबदबा नहीं बना सका. हमेशा तीन नंबर पर बल्लेबाजी करने वाले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली मुंबई वनडे में चौथे नंबर पर उतरे. लेकिन वह लय में नहीं दिखे. नतीजतन कोहली के आउट होने के बाद  मिडिल ऑर्डर दबाव में बिखर गया.

BCCI Contracts: युवा शेफाली वर्मा को मिला बड़ा इनाम, मिताली व झूलन ग्रेड बी में

भारतीय तेज गेंदबाजों की बात करें तो वह नई गेंद से असरहीन रहे. स्पिननर्स भी विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर (David Warner) और एरोन फिंच (Aaron Finch) के सामने संघर्ष करते नजर आए. इसमें ओस ने भी अहम भूमिका निभाई. कुल मिलाकर मुंबई में भारत के पक्ष में कुछ भी नहीं रहा.

नतीजा ये रहा कि टीम इंडिया को 15 साल बाद वनडे में 10 विकेट से शर्मनाक हार झेलने पर मजबूर होना पड़ा. बावजूद इसके कप्तान कोहली ने कहा कि एक दिन खराब होने से फैंस को ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है.

ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के खिलाफ शुक्रवार को राजकोट में खेले जाने वाले दूसरे वनडे में मेजबान टीम इंडिया पर दबाव होगा. तीन मैचों की सीरीज के बाकी दो वनडे में टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन में बदलाव संभव है. इसके अलावा बैटिंग ऑर्डर में भी परिवर्तन देख सकते हैं.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ राजकोट वनडे में इस प्लेइंग इलेवन के साथ उतर सकती है टीम इंडिया

रोहित शर्मा

‘हिटमैन’ रोहित शर्मा (Rohit Sharma) मुंबई वनडे में सस्ते में आउट होकर पवेलियन लौट गए थे. रोहित बाएं हाथ के तेज गेंदबाज मिचेल स्टार्क की क्रॉस-सीम गेंद को समझने में विफल रहे. ऐसे में 32 वर्षीय रोहित पिछली असफलता को भुलाकर राजकोट में टीम इंडिया को अच्छी शुरुआत दिलाने की ओर देख रहे होंगे.

शिखर धवन

टीम में तीन ओपनर के शामिल किए जाने के बाद ये चर्चा जोरों पर है कि रोहित शर्मा के साथ किसे पारी की शुरुआत करनी चाहिए. भारतीय टीम के लिए शिखर धवन और केएल राहुल ओपनिंग कर चुके हैं. लेकिन अब तक टीम मैनेजमेंट ने बाएं हाथ के ओपनर को रोहित के साथ पारी की शुरुआत करने की प्राथमिकता दी है.

देखा जाए तो चोट के बाद वापसी करने वाले शिखर धवन ने टीम मैनेजमेंट को निराश नहीं किया है. उन्होंने मुंबई वनडे में 91 गेंदों पर 9 चौकों और 1 छक्के की मदद से 74 रन की पारी खेली थी. राजकोट वनडे में भी धवन अपने शानदार प्रदर्शन को जारी रखते हुए अर्धशतक को शतक में बदलना चाहेंगे.

विराट कोहली

मुंबई वनडे में जिस तरह से मिडिल ऑर्डर फ्लॉप हुआ उसे देखते हुए विराट कोहली (Virat Kohli) राजकोट में तीसरे नंबर पर ही उतरेंगे. विराट के निशाने पर दिग्गज सचिन तेंदुलकर का एक रिकॉर्ड भी है जिसे वह शतक जड़ने के साथ हासिल कर सकते हैं. तेंदुलकर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे में सर्वाधिक 9 शतक लगाए हैं जबकि विराट ने अब तक 8 सेंचुरी ठोके हैं.

केएल राहुल

युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) ‘कनकशन’ के कारण दूसरे वनडे से बाहर हो गए हैं. ऐसे में केएल राहुल को अब बल्लेबाजी के साथ-साथ विकेटकीपिंग की भी जिम्मेदारी संभालनी होगी. केएल ने मुंबई वनडे में भी विकेट के पीछे अपना काम बखबूी निभाया था. राहुल को चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतारा जा सकता है जिन्होंने मुंबई वनडे में 47 रन की पारी खेली थी.

श्रेयस अय्यर

अब तक नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने वाले श्रेयस अय्यर को 5वें नंबर पर उतरना पड़ सकता है. पिछले कुछ समय से श्रेयस नंबर चार पर उतरते आए हैं लेकिन राजकोट में उन्हें एक पायदान नीचे उतरना पड़ सकता है. मुंबई वनडे में श्रेयस का बल्ला खामोश रहा था. मुंबई के श्रेयस बड़ी पारी खेल राजकोट में पिछली असफलता को भुलाना चाहेंगे.

पंत के चोटिल होने से मनीष पांडे शामिल हो सकते हैं प्लेइंग इलेवन में

रिषभ पंत के चोटिल होने की वजह से मनीष पांडे को मिडिल ऑर्डर में शामिल किया जा सकता है. गेंदबाजी की वजह से केदार जाधव को भी मनीष की जगह मैनेजमेंट प्लेइंग इलेवन में शामिल करने की सोच सकता है. हालांकि श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के तीसरे और अंतिम टी-20 मैच में मनीष ने अच्छी फॉर्म दिखाई थी.

रविंद्र जडेजा

भले ही अन्य भारतीय गेंदबाजों की तरह रविंद्र जडेजा को भी मुंबई वनडे में कोई सफलता हाथ नहीं लगी लेकिन टीम को संतुलन देने के लिए उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह मिल सकती है. विशेषकर हार्दिक पांड्या की अनुपस्थिति में. मुंबई में वह मिडिल ऑर्डर में उतरकर छोटी लेकिन उपयोगी पारी खेली थी. ऐसे में राजकोट में भी वह अच्छी फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे.

युजवेंद्र चहल

चाइनामैन कुलदीप यादव और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल में से किसे प्लेइंग इलेवन में मौका दिया जाए ये हमेशा से टीम मैनेजमेंट के सामने समस्या रही है. मुंबई में कुलदीप भी एक अदद विकेट के लिए तरसते नजर आए. लेकिन आप चहल जैसे गेंदबाज को अधिक समय तक बेंच पर नहीं बिठाए रख सकते. राजकोट में चहल प्लेइंग इलेवन का हिस्सा हो सकते हैं.

मोहम्मद शमी

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के लिए पिछला साल बेहतरीन रहा. मौजूदा समय में टीम इंडिया के बेस्ट पेसर को पहले वनडे में कोई कामयाबी हाथ नहीं लगी थी. उन्होंने अपने 7.4 ओवर में 58 रन लुटाए थे.

नवदीप सैनी

मुंबई वनडे में तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को प्लेइंग इलेवन का हिस्सा ना होने से सभी हैरान थे. उस मैच में शार्दुल ठाकुर को टीम में शामिल किया गया था जिन्होंने 5 ओवर में 43 रन खर्च कर डाले. दूसरे वनडे में सैनी की वापसी तय है. पतले और लंबे कद के सैनी टीम इंडिया के लिए ‘एक्स फैक्टर’ साबित हो सकते हैं.

जसप्रीत बुमराह

चोट के बाद वापसी करने वाले तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह सीरीज के पहले वनडे में 7 ओवर में 50 रन दे डाले. हालांकि वनडे का नंबर वन बॉलर मुंबई में अपने दूसरे स्पैल में थोड़ी अच्छी गेंदबाजी की. ऐसे में बुमराह से राजकोट वनडे में अच्छी गेंदबाजी की उम्मीद होगी.

धोनी ने झारखंड रणजी टीम के साथ अभ्यास शुरू किया

3 मैचों की सीरीज में मेहमान ऑस्ट्रेलिया 1-0 से आगे है. ऑस्ट्रेलिया ने पिछले साल भारत दौरे पर 3-2 से वनडे सीरीज जीत थी. ऐसे में उसके पास भारतीय सरजमीं पर लगातार दूसरी बार वनडे सीरीज जीत का मौका है जबकि टीम इंडिया इस मैच को जीतकर सीरीज में वापसी करना चाहेगी.