ईडन गार्डन में खेले गए भारत के पहले डे-नाइट टेस्‍ट में विराट एंड कंपनी ने पारी और 46 रन से बड़ी जीत दर्ज की. मैच में इशांत शर्मा ने नौ विकेट ली, जिसके चलते उन्‍हें मैन ऑफ द मैच दिया गया. पोस्‍ट मैच प्रेजेंटेशन के दौरान विराट कोहली ने कहा कि मुझे लग रहा था कि मुझे मैन ऑफ द मैच दिया जाएगा.Also Read - IND vs SL: Hardik Pandya का फ्लॉप शो जारी, टि्वटर पर भड़के फैन्स, बोले- गरीबों का बेन स्टोक्स

Also Read - Suresh Raina के बाद Ravindra Jadeja ने भी छेड़ा जातीय राग, बोले- Rajput Boy फिर हुए ट्रोल

पढ़ें:- अंबाती रायडू के विवादित ट्वीट पर अजहरुद्दीन ने दिया जवाब, कहा- हताशा हैं वो अब… Also Read - शोएब अख्तर ने बताया, 'विराट कोहली से आगे निकलने' के लिए क्या करें बाबर आजम

विराट कोहली ने मैच में 18 चौकों की मदद से 194 गेंद पर 136 रन की पारी खेली. वो अबतक खेले गए 12 अंतरराष्‍ट्रीय डे-नाइट टेस्‍ट क्रिकेट मैचों के इतिहास में शतक लगाने वाले पहले बल्‍लेबाज बन गए हैं.

विराट कोहली ने मैच के बाद स्थिति को स्‍पष्‍ट करते हुए कहा मुझे लगा था कि शायद मुझे मैन ऑफ द मैच मिले लेकिन ये किसी गेंदबाज को ही दिया जाना चाहिए. मुझे लगा इशांत और उमेश में से किसी को भी यह मिल सकता है.

‘दादा ने विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं’

विराट कोहली ने कहा, “क्रिकेट मानसिकता की लड़ाई है. हमें यह पता है. मेरा मतलब है है पहले के समय में कोई भी टीम बल्‍लेबाज को चोटिल नहीं करना चाहती थी. सभी केवल विरोधी टीम का विकेट निकालना चाहते थे. अब हमने भी यह सीख लिया है और विरोधी टीमों को ये लौटा रहे हैं. दादा (सौरव गांगुली) ने यह शुरू किया और हम केवल इसे आगे लेकर जा रहे हैं.”

पढ़ें:- कोहली के 27वें टेस्ट शतक और इशांत के ‘चौके’ से टीम इंडिया Day-Night टेस्ट में पारी से जीत की दहलीज पर पहुंची

‘हमारा गेंदबाजी ग्रुप है निडर’

विराट कोहली ने कहा, “इस वक्‍त हमारे गेंदबाजों का ग्रुप एक दम निडर है. वो खुद में विश्‍वास रखते हैं और किसी भी बल्‍लेबाज के खिलाफ गेंदबाजी को तैयार हैं. पिछले तीन-चार सालों में जो भी हमने किया है केवल उसी का इनाम हमें अब मिल रहा है. टीम में सभी को पता है कि उन्‍हें क्‍या करने की जरूरत है.”