भारत की टीम को आगामी 22 नवंबर को बांग्‍लादेश के खिलाफ अपना पहला डे-नाइट टेस्‍ट मैच खेलना है. यह मुकाबला पिंक गेंद से होगा, जिससे खेलने के लिए भारतीय टीम आदी नहीं है. हालांकि भारतीय टेस्‍ट टीम के बल्‍लेबाज चेतेश्‍वर पुजारा इस मैच को लेकर काफी उत्‍साहित हैं.

पढ़ें:- ICC ने कीवी कप्‍तान पर लगाई रोक को हटाया, विलियमसन अब कर सकेंगे यह काम

चेतेश्‍वर पुजारा दलीप ट्रॉफी में खेलने के दौरान पिंक बॉल से खेल चके हैं. उन्‍होंन पिंक गेंद से शतक और दोहरे शतक भी जड़े. हालांकि घरेलू क्रिकेट में इस गेंद को पायलेट प्रोजेक्‍ट के तौर पर लाया गया था, जिसे बाद में ड्रॉप कर दिया गया.
पुजारा ने कहा, ‘‘यह उत्साहित करने वाला होगा. हमने जो दिन-रात्रि मैच खेला था तो वो प्रथम श्रेणी मैच था, यह टेस्ट मैच होगा. मुझे पूरा भरोसा है कि सभी खिलाड़ी इसके लिये उत्साहित हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘पिंक गेंद से जितना हम खेलेंगे, उतना ही हमें अनुभव मिलेगा. हर गेंद में अपनी चुनौती होती हैं मुझे नहीं लगता कि लाल गेंद की तुलना में गुलाबी गेंद से खेलने में ज्यादा बदलाव करना होगा. खेल का प्रारूप पहले जैसा ही रहेगा.’’

पुजारा ने साफ किया, ‘‘फ्लड लाइट में टेस्‍ट मैच होगा तो कुछ अलग तो रहेगा, लेकिन यह सिर्फ गुलाबी गेंद का आदी होने की बात है. मुझे नहीं लगता कि इसमें ज्यादा अंतर होगा.

पढ़ें:- दिल्‍ली टी20 से पहले भारत को बड़ा झटका, रोहित शर्मा प्रैक्टिस सेशन के दौरान हुए चोटिल

उन्‍होंने कहा, ” कुछ टेस्ट मैच खेलने के बाद हम बिलकुल सही तरह से जान पायेंगे की इसमें क्‍या सुधार कर सकते हैं.’’
‘‘ मयंक अग्रवाल, रिषभ पंत, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी और रिद्धिमान जैसे खिलाड़ी दलीप ट्राफी में पिंक गेंद से खेल चुके हैं. जो नहीं खेले हैं, उनके लिये बांग्‍लादेश के खिलाफ सीखने का अच्छा मौका है.’’