नागपुर टी20 (Nagpur T20I) में दीपक चाहर (Deepak Chahar) के छह विकेट हॉल और हैट्रिक की मदद से भारत मेहमान बांग्‍लादेश (India vs Bangladesh) पर 30 रन से जीत दर्ज की. इसके साथ ही भारत ने 0-1 से पिछड़ने के बावजूद सीरीज को 2-1 से अपने नाम किया. मैन ऑफ द सीरीज रहे दीपक चाहर ने मैच के बाद बताया कि चेन्नई की उमस भरी परिस्थितियों में ओस और पसीने से निबटने की सीख उनके काम आई.

प ढ़ें:- Ayodhya verdict पर पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद कैफ का बयान: भारत किसी भी विचारधारा से बड़ा

दीपक टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में हैट्रिक लेने वाले भारत के पहले पुरुष क्रिकेटर हैं. आईपीएल (IPL) में चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) की तरफ से खेलने वाले चाहर क इस्‍तेमाल कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) बेहद चतुराई से करते हैं.

27 साल के इस तेज गेंदबाज ने युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) के साथ ‘चहल टीवी’ पर कहा, ‘‘चेन्नई में खेलते हुए मैंने सीखा कि किस तरह से ओस और पसीने से निबटना है. अपने हाथों को कैसे साफ रखना है. कई बार मैं सूखी मिट्टी अपने हाथों पर लगाता हूं और फिर गेंद करता हूं.’’

चाहर ने टी20 अंतरराष्ट्रीय में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का नया रिकॉर्ड बनाया. उन्होंने श्रीलंका के अजंता मेंडिस का रिकॉर्ड तोड़ा जिन्होंने 2012 में जिम्बाब्वे के खिलाफ आठ रन देकर छह विकेट लिये थे. भारत की तरफ से इससे पहले का रिकॉर्ड चहल के नाम पर था. इस लेग स्पिनर ने इंग्लैंड के खिलाफ 2017 में 25 रन देकर छह विकेट हासिल किये थे.

पढ़ें:- टीम मैनेजमेंट ने कहा है, मैं ही नंबर चार पर खेलूंगा : श्रेयस अय्यर

मूल रूप से राजस्‍थान के रहने वाले चाहर से पूछा गया कि गेंद स्विंग नहीं ले रही थी, ऐसे में उन्होंने क्या रणनीति अपनायी. उन्होंने कहा, ‘‘यहां (वीसीए स्टेडियम) की किनारों की सीमा रेखा काफी बड़ी है और इसलिए हमने बल्लेबाजों को उन स्थानों पर शॉट खेलने के लिये मजबूर करने की रणनीति अपनायी थी. मैं अपनी गति में भी विविधता लाना चाहता था क्योंकि ओस के कारण ग्रिप बनाना मुश्किल हो रहा था.’’

‘‘बाद में मुझे पता चला कि मैंने हैट्रिक ली है क्योंकि पहला विकेट मैंने पिछले ओवर की अंतिम गेंद पर लिया था. यहां तक कि अगर आप घर में हो तो सपने में भी आप यह नहीं सोचोगे कि चार ओवर में आप सात रन देकर छह विकेट लोगे.’’

चाहर ने खुशी जतायी कि कप्तान रोहित शर्मा ने उनके ओवर शुरू में खत्म करने के बजाय बीच के ओवरों में उनका अलग तरह से इस्तेमाल किया.‘‘मैं केवल कड़ी मेहनत करना चाहता हूं. ईश्वर की कृपा है जो मैं यहां हूं. आज की रणनीति नयी गेंद से आगे गेंद कराने की थी. मुझे बताया गया कि मैं सबसे अहम ओवर करूंगा. खुशी है कि टीम प्रबंधन ने मुझे यह जिम्मेदारी सौंपी.’’