भारत और इंग्लैंड (India vs England) के बीच खेले जा रहे पिंक बॉल टेस्ट (Pink Ball Test) में इंग्लैंड की टीम कुछ परेशान दिख रही है. मेहमान टीम ने इस डे-नाइट में टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया था, जिसके बाद वह 112 रन के साधारण स्कोर पर ऑल आउट हो गई. इसके बाद भारत अपनी पारी को सूझ-बूझ से आगे बढ़ाते हुए दिन का खेल खत्म होने तक 3 विकेट गंवाकर 99 रन जोड़ लिए हैं. Also Read - हमें शुरुआती 8-9 मैच दिल्‍ली-चेन्‍नई में खेलने हैं, यहां की पिचें हमें रास नहीं आती: डेविड वार्नर

टीम इंडिया अब पहली पारी के आधार पर इंग्लैंड से 13 रन पीछे है. इस बीच इंग्लैंड के उपकप्तान बेन स्टोक्स (Ben Stokes) भारतीय पारी के दौरान गेंद पर लार लगाते हुए दिखाई दिए. जब स्टोक्स को ऐसा करते पकड़ा गया तो इसके बाद गेंद को सैनीटाइज किया गया. यह घटना भारतीय पारी के 12वें ओवर के दौरान सामने आई, जब स्टोक्स के हाथ में गेंद गई तो वह गेंद पर लार का इस्तेमाल करते दिखाई दिए. Also Read - ICC Player of the Month: भुवनेश्‍वर कुमार को मिला इंग्‍लैंड के खिलाफ शानदार प्रदर्शन का इनाम, पूनम राउत-राजेश्‍वरी गायकवाड़ भी हुई नामांकित

इसके तुरंत बाद ही अंपायर नितिन मेनन ने उनसे इस मसले पर बात की और उन्हें याद दिलाया कि आईसीसी के नए नियमों के मुताबिक गेंद पर लार का इस्तेमाल फिलहाल प्रतिबंधित है. Also Read - Shreyas Iyer ने सफल सर्जरी के बाद शेयर की फोटो, बोले- शेर के दिल जैसी दृड़ता के साथ जल्‍द वापसी करूंगा

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने पिछले साल जून में कोविड-19 (Covid- 19) महामारी के चलते गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था. आईसीसी के कोविड-19 दिशानिर्देशों के मुताबिक एक टीम को प्रत्येक पारी में दो बार चेतावनी दी जा सकती है.

लेकिन गेंद पर बार-बार लार लगाने से 5 रन की पेनल्टी लगेगी, जो बल्लेबाजी कर रही टीम को मिलेंगे. इसके अलावा जब भी कोई खिलाड़ी गेंद पर लार लगाएगा तो अंपायरों को उस गेंद से खेल शुरू करने से पहले इसे साफ करना होगा.

इनपुट : IANS