India Tour Of England: इंग्लैंड के खिलाफ 4 अगस्त से शुरू होने वाली 5 टेस्ट मैच से पहले टीम इंडिया अपनी तैयारियों में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है. हालांकि कोरोना वायरस के चलते इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने भारतीय टीम को किसी तरह के प्रैक्टिस मैच मुहैया नहीं कराए हैं. ऐसे में टीम इंडिया इस सीरीज से पहले डरहम में अंतर्टीम (Team India Intra-Squad Matches) मैच खेलेगी. इन दो प्रैक्टिस मैचों के लिए इंग्लैंड दौरे पर चुने गए टीम के सभी खिलाड़ी दो सप्ताह के ब्रेक के बाद एक बार फिर जुटेंगे.Also Read - शुबमन गिल की अर्धशतकीय पारी के बावजूद ड्रॉ पर खत्म हुआ भारत vs लीसेस्टरशायर अभ्यास मैच

भारतीय टीम को हाल ही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World Test Championship) के फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा है. साउथम्पटन में खेले गए इस मैच के बाद टीम इंडिया गुरुवार को लंदन पहुंच गई. यहां से खिलाड़ी अगले कुछ दिनों के लिए टीम से अलग होकर इंग्लैंड में ही आराम करेंगे. टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस ब्रेक के दौरान खिलाड़ी लंदन और इसके आसपास ही रहेंगे. Also Read - रोहित की पूर्व गर्लफ्रेंड सोफिया ने जारी किया VIDEO, हिटमैन से लिंकअप पर फैन्‍स को लगाई फटकार!

भारतीय टीम मैनेजमेंट की योजना के अनुसार टीम इंडिया के खिलाड़ी डरबन के रिवरसाइड मैदान पर ये दोनों आपसी प्रैक्टिस मैच खेलेंगे. बीसीसीआई के एक सूत्र ने इस अखबार को बताया कि सीरीज के कार्यक्रम को ध्यान में रखकर ईसीबी भारतीय टीम के लिए इस कोविड 19 के मुश्किल दौर में किसी भी काउंटी टीम को उसके साथ प्रैक्टिस मैच खेलने के लिए तैयार नहीं कर सकता. Also Read - हमारे वक्‍त पर कार्तिक थोड़े कंफ्यूज थे, सहवाग ने बताया कहां हुई गड़बड़

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने बताया, ‘इस दौरे की रूपरेखा कोविड प्रोटोकॉल्स को ध्यान में रखकर तैयार की गई थी. ऐसे में किसी काउंटी टीम को उसी बबल में लाना, जिसमें टीम इंडिया होगी वह मुश्किल है. ईसीबी खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर बहुत चौकन्ना है. भारतीय टीम का यह बबल डरहम में ही तैयार किया जाएगा.’

इसके अलावा इस सीजन पहली बार इंग्लैंड की नई क्रिकेट लीग ‘द हंड्रेड’ की भी जुलाई में शुरुआत हो रही है. ऐसे में ईसीबी को अपने सभी खिलाड़ी वहां भी उपलब्ध चाहिए. इसलिए वह इसी दौरान भारत को कोई प्रैक्टिस मैच मुहैया कराके द हंड्रेड की टीमों के सामने चयन की अवसर सीमित भी नहीं करना चाहेगा.