वनडे सीरीज गंवा चुकी भारतीय टीम (Team India) को मेजबान न्‍यूजीलैंड के सामने मंगलवार को तीसरे और अंतिम मुकाबले (India vs New Zealand, 3rd ODI) में उतरना है. मैच से एक दिन पहले गेंदबाज शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur) ने कहा कि न्‍यूजीलैंड के मैदानाें का अलग-अलग आकार होना इन्‍हें क्रिकेट खेलने के लिए दुनिया में सबसे मुश्किल जगह बनाता है.

मीडिया से बातचीत के दौरान शार्दुल ठाकुर ने कहा, “दुनिया में कहीं भी न्‍यूजीलैंड जैसे मैदान नहीं हैं. ऐसे में यहां की बाउंड्री के डायमेंशन को समझना बेहद अहम हो जाता है. एक गेंदबाजा के तौर पर आपको हर मैच में अपना प्‍लान बदलना पड़ता है.”

पढ़ें:- IND vs NZ: तीसरे वनडे से पहले न्‍यूजीलैंड की टीम का हिस्‍सा बने ईश सोढ़ी सहित ये खिलाड़ी

“ऑकलैंड में खेले गए पिछले मुकाबले में सामने की बाउंड्री छोटी थी. इससे पहले हैमिल्‍टन वनडे में साइड की बाउंड्री छोटी थी. हर ग्राउंड के डायमेंशन अलग अलग हैं. आपको इसी हिसाब से गेंदबाजी करनी होती है. अब अगला मैच ऐसे ग्राउंड पर होगा जो अबतक खेले अन्‍य ग्राउंड के मुकाबले काफी बड़ा है.”

शार्दुल ठाकुर ने कहा, “आप जब नेट्स में प्रैक्टिस कर रहे होते हो तो इस बात का ध्‍यान रखना पड़ता है कि अगले मैच का ग्राउंड कैसा होने वाला है. उसी हिसाब से प्रैक्टिस सेशन को आगे बढ़ाया जाता है. इन ग्राउंड के हिसाब से ही आपको खुद को मानसिक तौर पर मजबूत करना होता है. विरोधी टीम आपको कभी भी आश्चर्यचकित कर सकती है. ऐसे में सभी चीजें महत्‍वपूर्ण हैं. अगर आपने देखा हो तो यहां बल्‍लेबाज हवाओं के रुख को देखते हुए उसी हिसाब से शॉट लगाते हैं.”

पढ़ें:- कपिल देव बोले- जोश में होश गंवा बैठी भारतीय टीम, खेल से ज्‍यादा लड़ने पर था ध्‍यान

सीरीज गंवा चुकी भारतीय टीम की आगामी मैच की रणनीति के बारे में पूछा गया तो शार्दुल ठाकुर ने कहा, “अब इस मैच में खिलाड़ी अपने खेल को बेहतर तरीके से दिखा पाएंगे. गेंदबाज अपने खेल में ज्‍यादा वैरिएशन लाने का प्रयास करेंगे. जब आप अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट खेल रहे होते हो तो हर खिलाड़ी के लिए प्रत्‍येक मैच जरूरी होता है.”