विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार की कड़वी यादें अब भी युजवेंद्र चहल के दिमाग में ताजा है और इस लेग स्पिनर ने कहा कि ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले गए मैच में जब महेंद्र सिंह धोनी आउट हुए तो उनके लिए अपने आंसू रोकना मुश्किल हो गया था।Also Read - IPL 2021- एक और खिताब जीतने के करीब है MS Dhoni की Chennai Super Kings: Kevin Pietersen

वर्ल्ड चैंपियनशिप से पहले ‘नर्वस’ हैं दिग्गज बॉक्सर एमसी मैरीकॉम Also Read - MS Dhoni की सलाह ने मेरी बैटिंग को बदल दिया, फिर मैंने और मेहनत की: Shardul Thakur

भारत के सामने 240 रन का लक्ष्य था और धोनी के 49वें ओवर में आउट होने के बाद चहल बल्लेबाजी के लिए उतरे थे। भारत ने बारिश से प्रभावित यह मैच 18 रन से गंवाया था। Also Read - टी20 में Dhoni से भी शानदार है Virat का रिकॉर्ड, बनाया SENA देशों में जीत का खास कीर्तिमान

भारत का स्कोर एक समय छह विकेट पर 92 रन था लेकिन धोनी ने रविंद्र जडेजा के साथ 116 रन की साझेदारी करके टीम को जीत के करीब पहुंचा दिया था। धोनी के 50 रन के निजी योग पर रन आउट होने के बाद भारत की जीत की उम्मीदें समाप्त हो गई थी।

चहल ने ‘इंडिया टुडे माइंड रॉक्स यूथ समिट’ में कहा, ‘यह मेरा पहला विश्वकप था और माही भाई (धोनी) के आउट होने पर मुझे बल्लेबाजी के लिये जाना था। मैं अपने आंसू रोकने की कोशिश कर रहा था। यह काफी तनावपूर्ण था।’

विजय शंकर ने नाबाद 91 रन की पारी खेल की चोट से वापसी

उन्होंने कहा, ‘हम नौ मैचों में बहुत अच्छा खेले लेकिन अचानक हम टूर्नामेंट से बाहर हो जाते हैं। बारिश पर हमारा वश नहीं है इसलिए (व्यवधान के लिए) कुछ कहना सही नहीं होगा। यह पहला अवसर था जबकि हम वास्तव में मैदान से जल्द से जल्द होटल लौटना चाहते थे।’

भारत लीग चरण में नौ मैचों में सात जीत से शीर्ष पर रहा था।