ICC World Test Championship Final, India vs New Zealand: भारत-न्यूजीलैंड के बीच 18 जून से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मैच की शुरुआत साउथम्पटन (The Rose Bowl, Southampton) में होने जा रही है. क्रिकेट इतिहास में पहली बार WTC फाइनल खेला जा रहा है. क्रिकेटरों के लिये सर्वोपरि माने जाने के बावजूद पांच दिनी क्रिकेट को 144 साल के गौरवशाली इतिहास के बाद दर्शकों का ध्यान खींचने के लिये विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप शुरू करनी पड़ी. जहां तक कोहली का सवाल है तो भारत के सबसे सफल टेस्ट कप्तान और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में होने के बावजूद वह कोई खिताब अपने नाम नहीं कर पाये हैं.Also Read - IND vs ENG: डरहम की मुख्य पिच पर टीम इंडिया ने की प्रैक्टिस, Rishabh Pant ने भी चलाया बल्ला

बतौर कप्तान उन्होंने अपना लोहा मनवाया है हालांकि महेंद्र सिंह धोनी से तुलना उनके लिये आसान नहीं रही है. कोहली को एक अदद खिताब की जरूरत है. हर कप्तान को होती है लेकिन भारतीय कप्तान को सबसे ज्यादा है. महेंद्र सिंह धोनी के बिना टीम इंडिया 14 साल बाद आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में उतरेगी. Also Read - Ranveer Singh ने यूं बरसाया MS Dhoni पर प्यार, साथ खेलने पहुंचे फुटबॉल मैच, माही का लुक हो गया वायरल- VIDEO

भारत में सफलता का पैमाना खिताब माना जाता है और विश्व कप दिलाकर जिस तरह का सम्मान और प्यार धोनी को मिला, उसकी कमी कोहली को जरूर खल रही होगी. वह इस फाइनल के जरिये उस कमी को दूर करना चाहेंगे. दूसरी ओर विलियम्सन के पास प्रतिभाशाली और दुनिया भर में क्रिकेटप्रेमियों के लाड़ले खिलाड़ियों की फौज है. भले ही वे भारत के खिलाफ खेल रहे हैं लेकिन विलियम्सन के कवर ड्राइव, डेवोन कोंवे की आक्रामक बल्लेबाजी, ट्रेंट बोल्ट की गेंदबाजी को सराहने वालों की यहां कमी नहीं है. वे क्रिकेट के ‘भद्रजन’हैं जो अपने खेल और आचरण से दिल जीतते आये हैं. विश्व कप फाइनल के बाद तो शायद ही कोई क्रिकेटप्रेमी होगा जो उनका मुरीद नहीं हो. Also Read - बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह के साथ फुटबॉल खेलते दिखे MS Dhoni, देखें तस्वीर

भारतीय टीम की चुनौती उनके लिये आसान नहीं होगी. जीतने वाली टीम को विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप गदा के साथ 16 लाख डॉलर ईनामी राशि के तौर पर मिलेंगे. ऐसे कई क्रिकेटर हैं जो विश्व कप नहीं जीत सके और उनके लिये यह फाइनल विश्व कप से कम नहीं होगा. चेतेश्वर पुजारा अपने शरीर पर नील वेगनेर की शॉर्ट गेंदों को झेलने के लिये तैयार होंगे. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला के बाद अजिंक्य रहाणे का कद बढ़ा है और वह इस लय को कायम रखना चाहेंगे. रविचंद्रन अश्विन सीमित ओवरों का विश्व कप शायद नहीं खेल पाये लिहाजा इस मैच में अपनी कैरम बॉल या स्लाइडर से विलियम्सन, रोस टेलर या हेनरी निकोल्स को परेशान करना चाहेंगे.

चौदह साल से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल रहे भारत के सबसे अनुभवी टेस्ट क्रिकेटर ईशांत शर्मा विश्व चैम्पियनशिप जीतने को आतुर होंगे.कागजों पर दोनों टीमें बराबरी की लग रही है लेकिन सीम और स्विंग की मददगार परिस्थितियों में कीवी गेंदबा कहर बरपा सकते हैं और इंग्लैंड ने हाल ही में टेस्ट श्रृंखला में यह अनुभव किया.

फाइनल मैच का अपना ही दबाव होता है और पारी की शुरुआत करने जा रहे रोहित शर्मा या शुभमन गिल से बेहतर इसे कौन समझ सकता है. दोनों को टिम साउदी और बोल्ट की नयी गेंद का सामना करना होगा. रोहित भारत में कामयाब रहे हैं लेकिन उनकी तकनीक और तेवर की असली परीक्षा इस फाइनल और उसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला में होगी. रिषभ पंत और वेगनेर की टक्कर भी रोचक रहेगी. दूसरी ओर न्यूजीलैंड के नये सितारे कोंवे को जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी का सामना करना होगा.

दोनों टीमें:

भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, रिषभ पंत, रविंद्र जडेजा, आर अश्विन, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद सिराज, उमेश यादव, हनुमा विहारी, रिधिमान साहा.

न्यूजीलैंड : केन विलियम्सन (कप्तान), टॉम ब्लंडेल, ट्रेंट बोल्ट, डेवोन कोंवे, कोलिन डि ग्रैंडहोम, मैट हेनरी, काइल जैमीसन, टॉम लाथम, हेनरी निकोल्स, ऐजाज पटेल, टिम साउदी, रोस टेलर, नील वेगनेर, बी जे वाटलिंग, विल यंग.

अंपायर : रिचर्ड एलिंगवर्थ, माइकल गॉ, मैच रैफरी : क्रिस ब्रॉड