सेंचुरियन: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को यहां कहा कि बल्लेबाजों की नाकामी के कारण उनकी टीम को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ श्रृंखला गंवानी पड़ी. भारत को दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के पांचवें दिन 135 रन से हार का सामना करना पड़ा जिससे उसने तीन मैचों की श्रृंखला 0-2 से गंवा दी है. भारतीय टीम ने केपटाउन में पहला टेस्ट मैच 72 रन से गंवाया था. Also Read - विराट कोहली ने शुरू किया वर्कआउट; खोला अपनी फिटनेस का राज

Also Read - धोनी भाई के साथ खेलकर पिच को पढ़ना सीखा : कुलदीप यादव

कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘हम अच्छी भागीदारी करने और बढ़त बनाने में नाकाम रहे. हम हार के लिये स्वयं जिम्मेदार हैं. गेंदबाजों ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभायी लेकिन बल्लेबाजों के कारण टीम को हार का मुंह देखना पड़ा. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने कोशिश की लेकिन हम बहुत अच्छे साबित नहीं हुए विशेषकर क्षेत्ररक्षण विभाग में. ’’ Also Read - कोहली के साथ नाम जोड़े जाने पर भड़का पड़ोसी मुल्क का ये बल्लेबाज, कहा- तुलना ही करनी है तो पाकिस्तानी दिग्गजों से करो

यह भी पढ़ें: सेंचुरियन टेस्ट में पुजारा ने बनाया ऐसा शर्मनाक रिकॉर्ड जिसे पूरे करियर में कभी नहीं भुला सकेंगे

कोहली ने पहली पारी में 153 रन की लाजवाब पारी खेली. उन्होंने कहा कि भारतीय टीम ने सेंचुरियन का विकेट समझने में गलती की. भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘हमें लगा कि विकेट सपाट है. यह हमारे लिये हैरानी भरा था. मैंने साथियों से कहा कि टास से पहले विकेट जैसा दिख रहा था वह उससे भिन्न है. विशेषकर पहली पारी में दक्षिण अफ्रीका के विकेट गंवाने के बाद हमें उसका फायदा उठाना चाहिए था. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘ मेरे लिये 150 ये अधिक रन कोई मायने नहीं रखते जबकि हम श्रृंखला गंवा चुके हैं. अगर हम जीत जाते तो 30 रन भी काफी मायने रखते. एक टीम के तौर पर आपको समूह के रूप में जीत हासिल करनी होती है. ’’

यह भी पढ़ें: वनडे के बादशाह रोहित शर्मा टेस्ट क्रिकेट के मामले में फिर साबित हुए कच्चे

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने कहा कि उनकी टीम ने मैच के पांचों दिन भारत पर दबदबा बनाये रखा. डुप्लेसिस ने कहा, ‘‘पिछले पांच दिनों में काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ी लेकिन हमने हर दिन अपना पलड़ा भारी रखा.’’ उन्होंने कहा कि पहले दिन आखिरी सत्र में उनका प्रदर्शन प्रभावशाली नहीं रहा लेकिन इसके बाद अगले चार दिन में खिलाड़ियों ने अपना जज्बा दिखाया और शानदार जीत दर्ज की.

डुप्लेसिस ने कहा, ‘‘यह काफी कड़ा टेस्ट मैच था क्योंकि विकेट लेना आसान नहीं था. पहले दिन के बाद हम काफी निराश थे. हमने उस दिन आखिरी 45 मिनट में भारत को मौका दिया लेकिन हमने सुनिश्चित किया और अगले चार दिन अपना जज्बा दिखाया. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम पहली पारी में पर्याप्त रन नहीं बना पाये. हमें 400 रन बनाने चाहिए थे लेकिन मेरे हिसाब से दूसरी पारी महत्वपूर्ण थी. हम स्कोर आगे बढ़ाते रहे और हम जानते थे कि 250 से अधिक का स्कोर चुनौतीपूर्ण होगा. ’’

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ने अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे तेज गेंदबाज लुंगी एनगिडी की जमकर तारीफ की जिन्होंने दूसरी पारी में 39 रन देकर छह विकेट लिये और मैन आफ द मैच बने. उन्होंने कहा, ‘‘एनगिडी ने खास प्रदर्शन किया. वह शानदार खिलाड़ी है और हम टीम में उसका स्वागत करते हैं. मैं व्यक्ति के व्यक्तित्व को देखता हूं और वह बहुत अच्छा इंसान है.’’

एनगिडी अपने पहले मैच में अपने घरेलू दर्शकों के सामने मैन आफ द मैच बनने से आहृलादित थे. उन्होंने कहा, ‘‘मैं अभी बहुत खुश हूं. मेरे लिये एकदम से सब कुछ बदल गया. फ्रेंचाइजी क्रिकेट में मैंने अच्छा प्रदर्शन किया था. मैंने वही किया जो मैं कर सकता था. मेरे घरेलू मैदान पर दर्शकों का मुझे अपार समर्थन मिला. ’’