विशाखापत्‍तनम में खेले जा रहे टेस्‍ट सीरीज के पहले मुकाबले में भारतीय टीम के युवा सलामी बल्‍लेबाज मयंक अग्रवाल ने दूसरे दिन दोहरा शतक लगाया.  पिछले साल ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर अपना टेस्‍ट डेब्‍यू करने वाले मयंक अग्रवाल 215(371) का यह होम कंडीशन में पहला ही टेस्‍ट मैच था, जिसमें धमाकेदार पारी खेलकर उन्‍होंने अपने इरादे साफ कर दिए हैं.

पढ़ें:- इंग्‍लैंड में धमाकों के बावजूद वापस नहीं गई ऑस्‍ट्र‍ेलियापाकिस्‍तान के साथ ऐसा क्‍यों ?’

मयंक अग्रवाल के करियर का यह पांचवां ही टेस्‍ट मैच है.  वो इस मुकाबले से पहले तक अपने करियर में शतक तक नहीं लगा पाए थे, लेकिन विशाखापत्‍तनम में उन्‍होंने न सिर्फ अपना शतक पूरा किया बल्कि शतक को दोहरे शतक में भी तबदील कर दिया.

इस दोहरे शतक के साथ मयंक एक विशेष क्‍लब में शामिल हो गए हैं.  वो टेस्‍ट करियर के पहले शतक को दोहरे शतक में तबदील करने वाले भारत के चौथे खिलाड़ी बन गए हैं.

पढ़ें:- इंग्लैंड के इस दिग्गज ऑल राउंडर ने जीता पीसीए के ‘वर्ष के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी’ का अवार्ड

विनोद कांबली-करुण नायर के क्‍लब में बनाई जगह

सबसे पहले साल 1965 में दिलीप सरदेसाई ने न्‍यूजीलैंड के खिलाफ मैच के दौरान अपने करियर के पहले ही टेस्‍ट शतक को दोहरे शतक में बदला था.  इसके बाद 1993 में विनोद कांबली ने यह कारनामा किया.

साल 2016 में करुण नायर (303*) ने अपने करियर का पहला टेस्‍ट शतक लगाया था.  उन्‍होंने अपनी इस पारी को तिहरे शतक में बदला.  करुण नायर के बाद मयंक अग्रवाल इस विशेष क्‍लब में जगह बनाने वाले चौथे भारतीय बल्‍लेबाज बन गए हैं.