सेंचुरियन: विराट कोहली की पराक्रमी शतकीय पारी और जसप्रीत बुमराह के दो विकेट से पटरी पर लौटने वाले भारत की दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच में जीत की उम्मीदों के सामने एबी डिविलियर्स खड़े हो गये हैं जिन्होंने सोमवार को यहां बारिश से प्रभावित तीसरे दिन दक्षिण अफ्रीका को शुरूआती झटकों से उबारा.Also Read - Vaccine Maitri: अगले महीने से अतिरिक्त कोविड-19 टीके का निर्यात बहाल करेगा भारत, स्वास्थ्य मंत्री बोले- सरकार की प्राथमिकता देश के लोग

बारिश और खराब रोशनी के कारण तीसरे सत्र का खेल प्रभावित रहा जिसमें केवल दस ओवर का खेल हो पाया. खराब रोशनी के कारण जब दिन का खेल समाप्त घोषित किया गया तब दक्षिण अफ्रीका ने दो विकेट पर 90 रन बनाये थे और उसकी कुल बढ़त 118 रन की हो गयी है. बुमराह ने अभी तक 30 रन देकर दो विकेट लिये हैं. Also Read - टीम इंडिया के 2021-22 के सीजन शेड्यूल का ऐलान; न्यूजीलैंड, वेस्टइंडीज, श्रीलंका और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होगी सीरीज

इससे पहले भारत ने कप्तान विराट कोहली की 153 रन की लाजवाब पारी से दक्षिण अफ्रीका के 335 रन के जवाब में अपनी पहली पारी में 307 रन बनाये. इस तरह से दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 28 रन की बढ़त हासिल की. Also Read - मेरे अलावा किसी को विश्वास नहीं था कि जसप्रीत बुमराह टेस्ट क्रिकेट खेल सकता है: रवि शास्त्री

भारत के पास मैच पर पकड़ बनाने का अच्छा मौका था तथा कोहली के बाद बुमराह ने उसे बेहतरीन अवसर दिलाया लेकिन एबी डिविलियर्स ठोस इरादों के साथ क्रीज पर उतरे. वह अभी 50 रन बनाकर क्रीज पर डटे हुए हैं. उनके साथ दूसरे छोर पर सलामी बल्लेबाज 36 रन पर खेल रहे हैं. इन दोनों ने अब तक तीसरे विकेट के लिये 87 रन जोड़े हैं.

सुपरस्पोर्ट पार्क की पिच में अभी से गेंद नीची रह रही है और बुमराह ने ऐसे में नयी गेंद से बेहतरीन स्पैल किया. उन्होंने एडेन मार्कराम (एक) और हाशिम अमला (एक) दोनों को तीन ओवर के अंदर पगबाधा आउट करके छठे ओवर तक स्कोर दो विकेट पर तीन रन कर दिया था.

रविचंद्रन अश्विन ने गेंदबाजी की शुरूआत की जबकि इशांत शर्मा पहले बदलाव के रूप में आये. डिविलियर्स ने अपने सदाबहार अंदाज में बल्लेबाजी की और किसी भी भारतीय गेंदबाज को कोई मौका नहीं दिया. उन्होंने अब तक 78 गेंदों का सामना करके छह चौके लगाये हैं.

एल्गर जब 29 रन पर थे तब बुमराह की गेंद पर विकेटकीपर पार्थिव पटेल के पास उनका कैच लेने का मौका था लेकिन वह चूक गये. एल्गर की 78 गेंद की पारी में एक चौका और अश्विन पर लगाया गया एक छक्का शामिल है.

इससे पहले भारतीय पारी कोहली के इर्द गिर्द ही घूमती रही जिन्होंने 217 गेंदों का सामना करके 15 चौके लगाये.

भारत ने सुबह कल के स्कोर पांच विकेट पर 183 रन से आगे खेलना शुरू किया. कोहली और हार्दिक पंड्या (15) ने छठे विकेट के लिये 45 रन की साझेदारी की.

कोहली ने 146 गेंदों में 10 चौकों की मदद से अपना 21वां टेस्ट शतक पूरा किया. वह सेंचुरियन में टेस्ट शतक जड़ने वाले पहले विदेशी कप्तान बन गए. इससे पहले इस मैदान पर किसी कप्तान का सर्वोच्च स्कोर 90 रन था जो 2010 में महेंद्र सिंह धोनी ने बनाया था.

यही नहीं वह दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर शतक जमाने वाले दूसरे भारतीय कप्तान बन गये. उनसे पहले 1997 में सचिन तेंदुलकर ने केपटाउन में सैकड़ा बनाया था. यह दक्षिण अफ्रीका में कोहली का दूसरा टेस्ट शतक है. तेंदुलकर ने यहां पांच टेस्ट शतक बनाये हैं .

कोहली को दूसरे छोर से सहयोग नहीं मिल पाया. पंड्या रन आउट का शिकार हो गये. अश्विन ने 54 गेंद में 38 रन बनाये और वह वर्नोन फिलैंडर का शिकार बने. कोहली और अश्विन ने 62 गेंद में 50 रन की साझेदारी की. अगले ओवर में मोर्नी मोर्कल ने मोहम्मद शमी को पहली स्लिप में लपकवाया.

कोहली ने नये बल्लेबाज इशांत (तीन) का बचाव करने की पूरी कोशिश. इस बीच लगभग नौ ओवर तक विकेट नहीं गिरा और 25 रन बने. मोर्ने मोर्कल (60 रन देकर चार विकेट) ने इशांत को शार्ट पिच गेंद पर आउट किया और इसके दो ओवर बाद कोहली को लांग आन पर कैच कराकर भारतीय पारी का अंत किया.