विशाखापत्‍तनम में बुधवार को जब भारतीय टीम वेस्‍टइंडीज के खिलाफ मैदान में उतरेगी तो उसके सामने करो या मरो की स्थिति होगी. मैच हारने के साथ ही भारत सीरीज भी हार जाएगा. तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने चेन्‍नई में मिली हार का कारण बताया. साथ ही कहा कि वनडे क्रिकेट टेस्‍ट और टी20 के मुकाबले ज्‍यादा कड़ा है.

पढ़ें:- IND vs WI, 2nd ODI: सीरीज हार से बचने के लिए भारतीय टीम में होंगे ये बदलाव !

मीडिया से बातचीत के दौरान दीपक चाहर ने कहा, “मुझे लगता है कि वनडे क्रिकेट सबसे कड़ा प्रारूप है. टी20 में आप जानते हो कि क्या करना है. अगर आप 24 रन दे देते हो तो लेकिन विकेट नहीं ले पाते हो तो फिर भी यह अच्छी गेंदबाजी है. टेस्ट में, आपको लगातार आक्रमण करना होता है. अगर आप रन दोगे और विकेट लोगे तो यह टीम के लिए अच्छा होगा.”

“वनडे में आपको दोनों चीजों को मिलाना होता है. विकेट लीजिए और रन बचाइए. आपको स्थिति को अच्छे से पढ़ना होता है. आपको समझना होता है कि टीम क्या चाहती है. आपको बल्लेबाजों को परखना होता है और फिर फैसला करना होता है कि क्या करना है. दोनों प्रारूपों से वनडे ज्यादा मुश्किल है. मैंने इंडिया-ए के साथ काफी वनडे क्रिकेट खेली है जिसने मुझे फायदा पहुंचाया है.”

पढ़ें:- Visakhapatnam ODI: जसप्रीत बुमराह ने टीम के साथ नेट्स में बहाया पसीना, पुराने…

चेन्‍नई में इसलिए हारा भारत

दीपक चाहर के कहा, “चेन्‍नई वनडे में हमने अच्छी गेंदबाजी नहीं की. मैं उम्‍मीद करता हूं कि विशाखापत्‍तनम में दोबारा वैसी स्थिति में आएं तो हम एक ईकाई के तौर पर बेहतर कर सकें.”

“पिछले चार मैचों से टीम की फील्डिंग भी अच्छी नहीं चल रही है. हमने काफी कैच छोड़े हैं. अगर हम इस तरह के बड़े शॉट लगाने वाले बल्लेबाजों के कैच छोड़ेंगे तो हमारे लिए मुश्किल हो जाएगी. एक फील्डिंग ईकाई के तौर पर भी हमें सुधार करना होगा.”