लगातार खराब फॉर्म से जूझ रहे विकेटकीपर बल्‍लेबाज रिषभ पंत ने चेन्‍नई वनडे में 69 गेंद पर 71 रन की अहम पारी खेली. टीम के लिए जरूरी रन बनाने के बावजूद पंत मैच नहीं जिता पाए. हालांकि लगातार आलोचराएं झेल रहे पंत का मनोबल इस पारी से जरूर बढ़ा होगा. मैच के बाद उन्‍होंने धीमी पारी खेलने से लेकर आलोचनाओं के संबंध में प्रतिक्रिया दी.

पढ़ें:- जामिया छात्रो के समर्थन में आए क्रिकेटर इरफान पठान, कही यह बड़ी बात

रिषभ पत को आम तौर पर विस्‍फोटक बल्‍लेबाज के तौर पर जाना जाता है। उन्‍होंने अपने नेचुरल क्रिकेट से हटकर बल्‍लेबाजी करने पर कहा, “नेचुरल खेल जैसा कुछ नहीं होता है. आपको परिस्थिति के मुताबिक ही खेलना होता है. अच्‍छा खिलाड़ी वही होता है जो टीम की डिमांड के अनुरूप ही प्रदर्शन कर पाता है.”

“निजी तौर पर कहूं तो जब भी में भारत के लिए खेलता हूं तो सभी पारियां मेरे लिए जरूरी होती हैं. एक युवा होने के नाते मैं सीखकर खुद में बदलाव चाहता हूं.”

पढ़ें:- विश्व कप-हेडिंग्ले टेस्ट के नायक बेन स्टोक्स को मिला ‘साल की सर्वश्रेष्ठ खेल हस्ती’ का अवार्ड

रिषभ पंत ने कहा, “जब मैं और श्रेयस अय्यर बल्‍लेबाजी कर रहे थे तो हम केवल एक साझेदारी बनाना चाहते थे. हमारा लक्ष्‍य 40वें ओवर तक पिच पर टिके रहना था क्‍योंकि 50 ओवरों के क्रिकेट में हम आखिरी 10 ओवरों में भी रन बना सकते हैं.”

आलोचनाओं के बारे में रिषभ पंत ने कहा, “एक खिलाड़ी और एक व्‍यक्ति होने के नाते मैं केवल प्रक्रियाओं पर अपना ध्‍यान केंद्रित करता हूं. लोग अच्‍छी और बुरी बातें करते ही रहेंगे लेकिन मुझे अपने खेल पर ही फोकस करना होगा. टीम मैनेजमेंट ने मुझे कहा कि मैं खुद को शांत रखूं और सभी पहलुओं पर खुद को सुधारने की कोशिश करूं.”

उर्वशी रौतेला के साथ लेट नाइट डिनर पर गए ऋषभ पंत… कुछ तो बात है!
तेलुगू फिल्मों की सनसनी है ये पंजाबी कुड़ी, बुमराह के साथ जुड़ चुका है नाम, अब इनके लिए लिखा Lots of Love