नई दिल्ली : टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन वनडे में एक बेहद खराब रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. भारत ने सातवीं बार सबसे कम स्कोर बनाने का अनचाहा रिकॉर्ड बनाया. उसने न्यूजीलैंड के खिलाफ रोहित शर्मा की कप्तानी में पहली बैटिंग करते हुए 92 रन बनाए. इस दौरान टीम के दो बड़े खिलाड़ी शून्य पर आउट हो गए. जबकि सबसे बड़ी साझेदारी दो बॉलर्स के बीच हुई. इससे पहले भारतीय टीम 2010 में न्यूजीलैंड के खिलाफ दांबुला वनडे में महज 88 रन पर ऑलआउट हो गई थी.

दरअसल भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन वनडे में 92 रन के स्कोर पर ऑलआउट हो गई. यह 7वीं बार है जब भारतीय टीम ने सबसे कम स्कोर बनाया. इससे पहले वह न्यूजीलैंड के खिलाफ दांबुला में 88 रन पर ऑलआउट हो गई थी. जबकि टीम इंडिया शारजहा में श्रीलंका के खिलाफ साल 2000 में महज 54 रन पर ऑलआउट हो गई थी. यह उसका सबसे कम टोटल स्कोर है. भारतीय टीम सिडनी में 1981 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 63 रन पर ऑलआउट हो गई थी. यह उसका दूसरा सबसे कम टोटल स्कोर है.

हैमिल्टन में हाहाकार… भारतीय बल्लेबाजों ने एक-दूजे से कहा- तू चल मैं आया यार!

न्यूजीलैंड के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज में 3-0 की अजेय बढ़त हासिल करने के बाद भारत ने प्लेइंग इलेवन में बदलाव किया. उसने कप्तान विराट कोहली कोहली की जगह शुभमन गिल की टीम में जगह दी. जबकि महेन्द्र सिंह धोनी को भी आराम दिया. ऐसे में रोहित को कप्तान बनाया गया. रोहित की कप्तानी में भारतीय टीम पहले बैटिंग करने उतरी और 30.5 ओवर में 92 रन बनाकर आउट हो गई. इस दौरान कुलदीप यादव और युजवेन्द्र चहल के बीच पारी की सबसे बड़ी साझेदारी हुई. इन दोनों बॉलर्स ने 25 रन बनाए.

टीम इंडिया को इस तकनीक ने सिखाया हवा में उड़कर कैच पकड़ना

भारत के सबसे कम टोटल स्कोर –

  • 54 रन बनाम श्रीलंका, शारजहा (2000)
  • 63 रन बनाम ऑस्ट्रेलिया, सिडनी (1981)
  • 78 रन बनाम श्रीलंका, कानपुर (1986)
  • 79 रन बनाम पाकिस्तान, सियालकोट (1978)
  • 88 रन बनाम न्यूजीलैंड, दांबुला (2010)
  • 91 रन बनाम दक्षिण अफ्रीका, डरबन (2006)
  • 92 रन बनाम न्यूजीलैंड, हैमिल्टन (2019)