नई दिल्ली. अब तक तो भारत-पाकिस्तान के कुटनीतिक कड़वाहट का असर सिर्फ दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट संबंधों पर देखने को मिलता था लेकिन अब हो सकता है ये दोनों देश ICC इवेंट में भी एक दूसरे के खिलाफ नहीं खेलें. मतलब ये कि अब वर्ल्ड कप में भी भारत-पाकिस्तान मुकाबले के रोमांच से वंचित होना पड़ सकता है. हम ऐसा क्यों कह रहे हैं अब जरा वो समझिए. दरअसल, भारत-पाक वर्ल्ड कप में न खेलें, इसे लेकर पुलवामा हमले के बाद सोशल मीडिया पर बड़ी तेज मांग उठी है.

16 जून को भारत-पाक मैच

वर्ल्ड कप इस साल मई-जून में इंग्लैंड में खेला जाना है. इस टूर्नामेंट में भारत-पाकिस्तान की पहली टक्कर की तारीख 16 जून तय की गई है. अगर भारत वर्ल्ड कप में, जो कि ICC का सबसे बड़ा टूर्नामेंट है, पाकिस्तान से खेलने से इंकार करता है तो इसके लिए उसे 2 प्वाइंट का खामियाजा भुगतना पड़ेगा. हालांकि, इन 2 अंक की भरपाई वो अपने बाकी बचे मुकाबलों में बेहतर परफॉर्म कर कर सकता है. बहरहाल, अब इस पर फैसला BCCI और देश की सरकार को करना है.

भारत की क्रिकेट एसोशिएसन का विरोध

बता दें कि भारत के क्रिकेट एसोशिएशन पहले से ही पाकिस्तानी क्रिकेटरों की तस्वीर अपनी गैलरी से हटाकर अपना विरोध और गुस्सा जता रहे हैं.

वर्ल्ड क्रिकेट में भारत का दबदबा है. ICC के लिए भारत सबसे बड़ा बाजार है. ऐसे में अगर भारत वर्ल्ड कप में भी खेलने से इंकार कर देता है तो पाकिस्तान पूरी तरह से अलग-थलग पड़ सकता है.