ब्रिस्टल: सीरीज के तीसरे और आखिरी टी-20 अंतरराष्ट्रीय किक्रेट मैच में भारत ने इंग्लैंड को सात विकेट से हराकर बड़ी जीत दर्ज की और सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली. भारत की इस जीत में रोहित शर्मा के नाबाद शतक और हार्दिक पंड्या के आलराउंड प्रदर्शन का बड़ा योगदान रहा. Also Read - भारतीय टीम के लिए खुशखबरी; टी20 सीरीज खेलने के लिए फिट हैं हार्दिक पांड्या

भारत के सामने 199 रन का लक्ष्य था. रोहित ने एक छोर संभाले रखा और 56 गेंदों पर नाबाद 100 रन बनाये जिसमें 11 चौके और पांच छक्के शामिल हैं. उन्होंने कप्तान विराट कोहली (29 गेंदों पर 43 रन) के साथ तीसरे विकेट के लिये 89 रन की साझेदारी की. पंड्या ने 14 गेंदों पर नाबाद 33 रन की तूफानी पारी खेली जिससे भारत ने 18.4 ओवर में तीन विकेट पर 201 रन बनाकर जीत दर्ज की. Also Read - अंतरराष्ट्रीय डेब्यू के बाद पहली बार बिना वनडे शतक के खत्म होगा विराट कोहली का साल

इससे पहले गेंदबाजों ने शुरू में रन लुटाने के बाद अच्छी वापसी की. पंड्या ने 38 रन देकर चार विकेट लिये जिससे इंग्लैंड दस ओवर में 112 रन बनाने के बावजूद आखिर में नौ विकेट पर 198 रन ही बना पाया. जैसन रॉय ने 31 गेंदों पर चार चौकों और सात छक्कों की मदद से 67 रन बनाये और जोस बटलर (21 गेंदों पर 34) के साथ पहले विकेट के लिये 7.5 ओवर में 94 रन जोड़े. इनके अलावा एलेक्स हेल्स (24 गेंदों पर 30) और जॉनी बेयरस्टॉ (14 गेंदों पर 25) ने भी उपयोगी योगदान दिया. Also Read - Rohit Sharma की चोट को लेकर गौतम गंभीर ने तोड़ी चुप्पी, VVS Laxman ने भी जताई हैरानी

अपने पहले ओवर में 22 रन लुटाने वाले पंड्या भारत के सबसे सफल गेंदबाज रहे. उन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया जबकि सिद्धार्थ कौल ने 35 रन देकर दो विकेट हासिल किये. उमेश यादव ने चार ओवर में 48 रन देकर एक जबकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण कर रहे दीपक चाहर ने 43 रन देकर एक विकेट लिया.

महेंद्र सिंह धौनी ने विकेट के पीछे कमाल दिखाया और पांच कैच लिये. किसी एक टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में पांच कैच लेने वाले वह पहले विकेटकीपर बन गए हैं. वह इस दौरान इस फॉर्मेट में कैचों का अर्धशतक पूरा करने वाले पहले विकेटकीपर भी बने. भारत का प्रदर्शन वास्तव में काबिलेतारीफ रहा क्योंकि गेंदबाजी के अलावा बल्लेबाजी में भी उसकी शुरुआती अनुकुल नहीं रही थी. भारत ने शिखर धवन (पांच) और पहले मैच के शतकवीर केएल राहुल (19) के विकेट जल्दी गंवा दिये थे.

रोहित ने शानदार बल्लेबाजी की, डेविड विली पर छक्के से खाता खोलने वाले इस बल्लेबाज ने जोर्डन पर लगातार दो छक्के लगाये. उनके प्रयास से भारत दो विकेट गंवाने के बावजूद पावरप्ले में 70 रन जुटाने में सफल रहा. रोहित इस पारी के दौरान टी-20 में 2000 रन पूरे करने वाले भारत के दूसरे और दुनिया के पांचवें बल्लेबाज बने. उन्होंने 19वें ओवर में अपने करियर का तीसरा शतक पूरा किया जबकि पंड्या ने जोर्डन के इसी ओवर में विजयी छक्का लगाया.

भारत को आखिरी चार ओवर में 44 रन चाहिए थे. पंड्या ने जैक बॉल पर दो चौके लगाकर हाथ खोले और इसके बाद अपनी लप्पेबाजी से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया. पंड्या ने चार चौके और दो छक्के लगाये. भारत ने द्विपक्षीय टी20 श्रृंखला में तीसरा मैच नहीं गंवाने का रिकार्ड भी बरकरार रखा. दोनों टीमों के बीच अब 12 जुलाई से तीन वनडे मैचों की श्रृंखला खेली जाएगी.