नई दिल्ली. एशियाई खेलों से पहले भारत को करारा झटका लगा है. पदक की उम्मीदों में शुमार मौजूदा विश्व और राष्ट्रमंडल चैम्पियन वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने अपना नाम वापस ले लिया. चानू ने टूर्नामेंट से हटने का फैसला कमर के दर्द की वजह से लिया है.  मीराबाई ने भारतीय भारोत्तोलन महासंघ को ईमेल भेजकर इन खेलों से बाहर रहने का अनुरोध किया है .Also Read - खिलाड़ियों को समय-समय पर बायो बबल से आराम दिए जाने की जरूरत है: विराट कोहली

Also Read - 'नए भारत' के 'नए नायक' हैं नीरज चोपड़ा, बजरंग पुनिया और हमारे सारे एथलीट्स: अनुराग ठाकुर

विराट-अनुष्का के कहने पर DJ Frenzy ने तैयार किया ‘सजना वे सजना’ का रिमिक्स,VIDEO Also Read - स्वर्ण पदक हासिल करने वाले नीरज चोपड़ा का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं माता-पिता

एशियन गेम्स का आयोजन 18 अगस्त से होना है. मीराबाई मई के आखिर से कमर के निचले हिस्से में दर्द से जूझ रही थी और उन्होंने पूरी तरह से अभ्यास भी शुरू नहीं किया था .  उनका एशियाई खेलों में नहीं जाना भारत के लिये बड़ा झटका है क्योंकि पिछले प्रदर्शन के आधार पर वह बड़ी पदक उम्मीद थी . नवंबर में उसने 22 साल में विश्व चैम्पियनशिप में भारत के लिये पहला स्वर्ण जीता था जब अमेरिका के अनाहेम में हुई चैम्पियनशिप में उसने 48 किलो वर्ग में 194 किलो (85 और 109 किलो) के साथ रिकार्ड भी बनाया था . इसके बाद अप्रैल में गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में अपना निजी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 196 किलो वजन उठाकर उसने स्वर्ण पदक हासिल किया था .

मीराबाई के अलावा राखी हलधर (63 किलो), राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता सतीश शिवलिंगम और अजय सिंह (77 किलो) और कांस्य पदक विजेता विकास ठाकुर (94 किलो) भी एशियाई खेलों के लिये भारतीय भारोत्तोलन दल में हैं.