जोहानिसबर्ग। भारतीय टीम की गेंदबाजी से प्रभावित पूर्व गेंदबाजी कोच एरिक सिमंस ने उनकी तुलना दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों से करते हुए कहा कि भारतीय गेंदबाज विदेशों में पहले से काफी अधिक विकेट ले रहे हैं. सिमंस के गेंदबाजी कोच रहते हुए टीम ने 2011 विश्व कप का खिताब जीता था. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका दौरे के पहले दो टेस्ट मैचों में भारतीय गेंदबाजों के प्रदर्शन को ‘शीर्ष स्तर’ का बताया. Also Read - अगस्‍त में भारत के दौरे पर अड़ा CSA, कहा- करेंगे 350 लोगों के लिए जैव-सुरक्षित माहौल का इंतजाम

Also Read - कोहली एंड कंपनी और दक्षिण अफ्रीका के बीच अगस्त में खेली जा सकती है T20 मैचों की सीरीज बशर्तें...

उन्होंने कहा कि एक कोच के तौर पर, मैं हमेशा नतीजे पर नहीं जाता हूं. दोनों टेस्ट मैचों में भारतीय गेंदबाजी विभाग ने शानदार किया है. जो काम उन्होंने बहुत अच्छा किया है वह है अच्छी रणनीति और योजनाएं बनाकर उसे अमल में लाने का. Also Read - IND vs SA: भारत आई अफ्रीकी टीम के कोरोनावायरस टेस्‍ट की रिपोर्ट आई सामने

सिमंस ने कहा कि केप टाउन और सेंचुरियन में भारतीय टीम की करारी हार में भी तेज गेंदबाजी कमाल की रहीं. केपटाउन और सेंचुरियन की विकेट में अंतर था. कई बार गेंदबाज उत्सुक हो जाते है और कई चीज करने की कोशिश करते है.

भारतीय गेंदबाजों ने अच्छा धैर्य दिखाया और योजना के मुताबिक गेंदबाजी की. सिमंस को भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की मेहनत ने प्रभावित किया. 

इरफान खान के बदले इरफान पठान को दे दी बेस्ट एक्टर की बधाई, क्रिकेटर के जवाब पर यूजर्स ने लिए मजे

इरफान खान के बदले इरफान पठान को दे दी बेस्ट एक्टर की बधाई, क्रिकेटर के जवाब पर यूजर्स ने लिए मजे

उन्होंने कहा कि इस परिस्थितियों में दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों का सामना मुश्किल होता है लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने भी उनकी टीम को कम स्कोर पर रोक कर जीत के मौके बनाए. इससे यह पता चलता है कि इन गेंदबाजों ने कितनी शानदार गेंदबाजी की.

श्रृंखला के तीसरे टेस्ट के लिए उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को 3-0 की हार से बचने के लिए टिप्स भी दिए. सिमंस ने कहा कि जब भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका आई तो यहां लंबी पारी खेलना गेंद खेलने पर नहीं, बल्कि गेंद छोड़ने पर निर्भर करता है. मुझे नहीं लगता की उन्होंने गेंद को ठीक से छोड़ा है, खासकर केपटाउन में.