नई दिल्ली : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर ऐतिहासिक 2-1 से जीत को अपनी ‘सबसे बड़ी उपलब्धि’ करार दिया जिससे कि वर्तमान टीम को एक अलग तरह की पहचान मिलेगी. महेंद्र सिंह धोनी ने आठ साल पहले वानखेड़े में जब विश्व कप ट्रॉफी हाथ में ली थी तो कोहली उस टीम के सबसे युवा सदस्य थे लेकिन उनके अनुसार वर्तमान उपलब्धि इस सूची में सबसे ऊपर रहेगी.

कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘यह मेरी अब तक की सबसे बड़ी उपलब्धि है. यह सूची में सबसे ऊपर रहेगी. जब हमने विश्व कप जीता था तो मैं टीम का सबसे युवा सदस्य था. मैं देख रहा था कि अन्य खिलाड़ी भावुक हो रहे थे. इस श्रृंखला में जीत से हमें एक टीम के रूप में अलग पहचान मिलेगी. हमने जो हासिल किया मुझे वास्तव में उस पर गर्व है.’’

पुजारा को मिला शानदार प्रदर्शन का ईनाम, चुने गए ‘मैन ऑफ द सीरीज’

सिडनी में ही चार साल पहले कोहली टेस्ट टीम के स्थायी कप्तान बने थे और इसी मैदान पर उनकी टीम ने नया इतिहास रचा. भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘हमारे बदलाव की शुरुआत यही पर हुई थी जहां मैंने कप्तान पद संभाला था और मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि चार साल बाद हम यहां जीतने में सफल रहे. मैं केवल एक शब्द कह सकता हूं कि मुझे इस टीम की अगुवाई करने में फख्र महसूस होता है. यह मेरे लिये सम्मान है. खिलाड़ियों के प्रयास से ही कप्तान अच्छा साबित होता है.’’

टीम इंडिया ने रचा इतिहास, ऑस्ट्रेलिया में जीती पहली टेस्ट सीरीज

बता दें कि कोहली ने विदेशी जमीन पर भारत को यह चौथी टेस्ट सीरीज जीत दिलायी है. इससे पहले उन्होंने श्रीलंका को उसके घर में दो बार हराया है. टीम इंडिया ने साल 2015 और 2017 में श्रीलंका को उसकी के घर में क्रमश: -1 और 3-0 से हराया था. जब कि वेस्टइंडीज को 2016 में 2-0 से हराया था. लिहाजा कोहली टीम के इंडिया के बेहतरीन कप्तानों की सूची में शामिल होने की ओर हैं.