ऑस्ट्रेलिया के स्टार बल्लेबाज स्टीव स्मिथ (Steve Smith) एक बार फिर नए विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. बॉल टैम्परिंग में एक साल का प्रतिबंध झेलने वाले इस स्टार खिलाड़ी पर नया आरोप यह लग रहा है कि सिडनी टेस्ट (India vs Australia Sydney Test) मैच के 5वें और अंतिम दिन जब रिषभ पंत (Rishabh Pant) उम्दा बल्लेबाजी कर रहे थे. तब ड्रिंक्स के दौरान इस पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने पिच पर आकर उनके लगाए बैटिंग गार्ड निशान को मिटाने की कोशिश की थी. हालांकि स्मिथ ने इन आरोपों पर ‘हैरानी और निराशा’ जताई है. उन्होंने कहा कि इससे भारत की शानदार बैटिंग की की चमक कुछ फीकी हो गई है. Also Read - भारत के खिलाफ फ्लॉप रहे Matthew Wade ने BBL में करीब 200 की स्‍ट्राइकरेट से बनाए रन, बने MoM

स्मिथ की ऐसी कुछ वीडियो फुटेज सामने आई हैं, जिसमें वह ड्रिंक्स के दौरान बल्लेबाजों द्वारा बनाए गए निशान से छेड़छाड़ करते दिख रहे हैं. यह सिडनी टेस्ट के 5वें और अंतिम दिन के खेल का वाक्या है. यानी इसके बाद स्मिथ को या ऑस्ट्रेलिया को बल्लेबाजी करने भी नहीं उतरना था. तो सवाल यह है कि फिर वह क्यों बैटिंग गार्ड से छेड़छाड़ कर रहे थे. पंत ने इस मैच में 97 रन की तेजतर्रार पारी खेली थी, जिससे भारत एक समय ऑस्ट्रेलिया से मिले लक्ष्य को हासिल करता दिख रहा था. Also Read - घर लौटकर T Natarajan ने बताया वो कब हो गए थे नर्वस, टेस्‍ट सीरीज जीत में निभाई अहम भूमिका

स्मिथ ने ‘न्यूज क्रॉप’ से कहा, ‘मैं इस तरह की प्रतिक्रिया से काफी हैरान और निराश हूं.’ उन्होंने कहा कि वह वहां से कुछ चीजों को समझने और अभ्यास के लिए ऐसा कर रहे थे. इस बल्लेबाज ने आगे कहा, ‘मैं अकसर मैचों में ऐसा करता हूं ताकि यह समझ सकूं कि हम कहां गेंदबाजी कर रहे हैं और बल्लेबाज उसका सामना कैसे कर रहे हैं. मुझे वहां निशान बनाने की आदत है.’ Also Read - Rahul Dravid ने ऑस्‍ट्रेलिया में जीत का श्रेय लेने से किया इंकार, बोले- ये युवाओं का कमाल

क्रीज के निशान को पैर से खरोचने के वीडियो के वायरल होने के बाद स्मिथ को प्रशंसकों और भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग की आलोचना झेलनी पड़ी थी. टीम के पूर्व कप्तान स्मिथ ने कहा कि इसने और कुछ अन्य विवादों ने भारत की शानदार बल्लेबाजी प्रदर्शन की चमक को प्रभावित किया है. उन्होंने कहा, ‘यह निराशाजनक है कि इसने और कुछ अन्य विवादों ने भारत की शानदार बल्लेबाजी की चमक को थोड़ा फीका कर दिया.’

इनपुट : भाषा