विशाखापत्तनम/नई दिल्ली: आस्ट्रेलिया ने आखिरी गेंद तक खिंचे कम स्कोर वाले पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में रविवार को यहां भारत पर तीन विकेट से रोमांचक जीत दर्ज करके दो मैचों की श्रृंखला में शुरुआती बढ़त बनायी. भारत ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर सलामी बल्लेबाज केएल राहुल (36 गेंदों पर 50 रन) के अर्धशतक से पहले नौ ओवरों में 76 रन जुटाये लेकिन महेंद्र सिंह धोनी (37 गेंदों पर नाबाद 29) की मौजूदगी के बावजूद वह आखिरी के 11 ओवरों में केवल 50 रन ही बना सका और इस तरह से आस्ट्रेलिया ने उसे सात विकेट पर 126 रन पर रोक दिया.

भारतीय टीम आगामी वर्ल्ड कप (World Cup 2019) से पहले आखिरी इंटरनेशनल सीरीज खेल रही हैं. दोनों टीमें (India vs Australia) रविवार (24 फरवरी) को सीरीज का पहला टी20 मैच खेल रही हैं. भारत की टीम विराट कोहली और ऑस्ट्रेलिया की टीम एरॉन फिंच की अगुवाई में उतरी.

इसके जवाब में आस्ट्रेलिया ग्लेन मैक्सवेल (43 गेंद पर 56) और डीआर्शी शार्ट (37 गेंद पर 37) के बीच तीसरे विकेट के लिये 84 रन की साझेदारी से एक समय आसान जीत की तरफ से बढ़ रहा था लेकिन भारत ने शानदार वापसी की. जसप्रीत बुमराह (16 रन देकर तीन विकेट) की शानदार गेंदबाजी के कारण आस्ट्रेलिया के सामने अंतिम छह गेंदों पर 14 रन बनाने का लक्ष्य था. उमेश यादव आखिरी ओवर करने आये. उनके सामने आस्ट्रेलिया के पुछल्ले बल्लेबाज जॉय रिचर्डसन (नाबाद सात) और पैट कमिन्स (नाबाद सात) थे. इन दोनों ने उमेश पर एक एक चौका लगाया. कमिन्स ने पांचवीं गेंद चार रन के लिये भेजी और अंतिम गेंद पर दो रन लेकर टीम का स्कोर सात विकेट पर 127 रन पर पहुंचाया.

शिखर धवन को विश्राम दिये जाने के कारण अंतिम एकादश में जगह बनाने वाले राहुल ने अपनी पारी में छह चौके और एक लगाया. उन्होंने कप्तान विराट कोहली (17 गेंदों पर 24 रन) के साथ दूसरे विकेट के लिये 55 रन जोड़े. जब ये दोनों खेल रहे थे तब लग रहा था कि भारत दमदार स्कोर खड़ा करने में सफल रहेगा लेकिन मध्यक्रम लड़खड़ाने और धोनी की धीमी बल्लेबाजी से टीम अच्छा स्कोर नहीं बना पायी. धोनी ने 11वें ओवर के शुरू में क्रीज पर कदम रखा और आखिर तक टिके रहे लेकिन उनके बल्ले से केवल एक छक्का निकला. धोनी ने यह छक्का भी 20वें ओवर में लगाया. उन्होंने 29 रन बनाये लेकिन इसके लिये 37 गेंदें खेली. धीमी बल्लेबाजी के लिये पहले भी आलोचकों के निशाने पर इस विकेटकीपर बल्लेबाज का स्ट्राइक रेट 78.37 रहा.


नाथन कूल्टर नाइल आस्ट्रेलिया के सबसे सफल गेंदबाज रहे. उन्होंने चार ओवर में 26 रन देकर तीन विकेट लिये. जैसन बेहरनडॉर्फ (16 रन देकर एक), कमिन्स (19 रन देकर एक) और एडम जंपा (22 रन देकर एक) ने उनका अच्छा सहयोग दिया. आस्ट्रेलिया का स्कोर भी एक समय दो विकेट पर पांच रन था. मार्कस स्टोइनिस (पांच गेंद पर एक रन) गफलत में रन आउट हो गये जबकि उनकी जगह लेने के लिये उतरे कप्तान आरोन फिंच को बुमराह ने पहली गेंद पर पगबाधा आउट कर दिया.

मैक्सवेल ने उमेश पर तीन चौके तथा युजवेंद्र चहल पर छक्का और चौका लगाकर अपने इरादे जतलाये. अपना पहला टी20 अंतरराष्ट्रीय खेल रहे मयंक मार्कंडेय भी उन पर प्रभाव नहीं छोड़ पाये. उन्होंने इस लेग स्पिनर पर लांग आन पर दर्शनीय छक्का जमाया. मैक्सवेल ने 40 गेंदों पर छठा अर्धशतक पूरा किया लेकिन इसके तुरंत बाद उन्होंने चहल की टर्न लेती गेंद पर लांग आफ पर कैच थमा दिया. उन्होंने अपनी पारी में छह चौके और दो छक्के लगाये. यहां से मैच का पासा एकदम से पलट गया.

शार्ट और एस्टन टर्नर के आउट होने से मैच अचानक रोमांचक बन गया. मार्कंडेय ने दबाव में अच्छी गेंदबाजी करके 18वें ओवर में केवल पांच रन दिये. आस्ट्रेलिया को दो ओवरों में 16 रन की दरकार थी. बुमराह ने 19वें ओवर में केवल दो रन दिये तथा पीटर हैंडसकांब (15 गेंद पर 13) और नाथन कूल्टर नाइल (चार) को आउट करके भारतीय खेमे में उम्मीद जगा दी लेकिन उमेश आखिरी ओवर में 14 रन लुटा गये. इससे पहले भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही और उसने तीसरे ओवर में ही रोहित शर्मा (आठ गेंदों पर पांच रन) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने बेहरानडॉर्फ की गेंद पर स्कूप करने के प्रयास में शार्ट फाइन लेग पर आसान कैच दिया.

भारत ए की तरफ से दो अर्धशतकीय पारियां खेलकर फार्म में लौटे राहुल ने तेज गेंदबाज जॉय रिचर्डसन की लेंथ और धीमी गेंदों पर लगाये गये चौके और स्पिनर जंपा के सिर के ऊपर से लगाये गये छक्के से अपनी लय दिखायी. कोहली अपने फ्लिक, ड्राइव और स्लैश का ज्यादा देर तक प्रदर्शन नहीं कर पाये। जंपा की गेंद पर फ्लिक करके वह लांग आन पर कैच दे बैठे जबकि उनकी जगह लेने के लिये उतरे ऋषभ पंत (पांच गेंद पर तीन रन) अपनी ही गलती से रन आउट हो गये.

राहुल ने नौवें ओवर की आखिरी गेंद पर छक्का लगाया था और इसके बाद गेंद बाउंड्री के बाहर जाने के लिये तरस गयी. राहुल ने 35 गेंदों पर अपने टी20 अंतरराष्ट्रीय करियर का पांचवां अर्धशतक पूरा किया लेकिन वह इसके तुरंत बाद कूल्टर नाइल की गेंद हवा में खेलने के प्रयास में मिडआफ पर आसान कैच दे बैठे. कूल्टर नाइल ने इसी ओवर में नये बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (तीन गेंदों पर एक रन) की गिल्लियां बिखेरकर भारत को बैकफुट पर भेजा. कृणाल पंड्या (छह गेंद पर एक रन) और उमेश (चार गेंद पर दो रन) आउट होने वाले अगले बल्लेबाज थे जबकि धोनी पूरे समय रन बनाने के लिये जूझते हुए दिखे। उन्होंने इस बीच कई बार एक रन भी नहीं लिया.