मजबूत बैटिंग लाइन अप वाली टीम इंडिया शनिवार को पिंक बॉल टेस्ट (India vs Australia Pink Ball Test) में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मात्र 36 रन पर ऑल आउट हो गई. भारतीय टीम की इस खस्ता बैटिंग हालात पर पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज फास्ट बॉलर शोएब अख्तर (Shoaib Akhtar) ने भी हैरानी जताई है. Also Read - भारत के खिलाफ फ्लॉप रहे Matthew Wade ने BBL में करीब 200 की स्‍ट्राइकरेट से बनाए रन, बने MoM

उन्होंने भारत के इस लचर बैटिंग परफॉर्मेंस पर तंज कसते हुए कहा कि भारत ने तो हमारा (पाकिस्तान) का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया. यह बहुत ही शर्मनाक है और इसे सदियों तक भुलाया नहीं जा सकेगा. अख्तर ने कहा एक वक्त तो भारतीय स्कोरकार्ड देखकर लगा कि यह 36/9 नहीं 369 स्कोर है. मैं मानने को तैयार ही नहीं था कि भारत ने 36 पर 9 विकेट गंवा चुका है और शमी रिटायर्ड हर्ट हो गए हैं. मैं देखकर हैरान रह गया. Also Read - घर लौटकर T Natarajan ने बताया वो कब हो गए थे नर्वस, टेस्‍ट सीरीज जीत में निभाई अहम भूमिका

अख्तर ने कहा कि हम भी एक बार ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ 53 रन पर ऑल आउट (शारजहा टेस्ट, 2002) हुए थे. लेकिन खुदा का शुक्र खाओ की उस वक्त हमारे पीछे ग्लेन मैक्ग्रा, ब्रेट ली, शेन वॉर्न जैसे दिग्गज गेंदबाज पड़े थे और आज का कंगारू बॉलिंग अटैक वैसा नहीं है, जो उस वक्त था. Also Read - Rahul Dravid ने ऑस्‍ट्रेलिया में जीत का श्रेय लेने से किया इंकार, बोले- ये युवाओं का कमाल

उन्होंने भारतीय टीम के मौजूदा बल्लेबाजों पर नाराजगी जताते हुए कहा कि ये बल्लेबाज अगर शेन वॉर्न, वसीम अकरम, वकार यूनिस के दौर में खेले होते तो इनके दिन अच्छे नहीं होते. तब उन्हें क्रिकेट की सही समझ होती.

यहां देखें शोएब अख्तर का पूरा वीडियो

रावलपिंडी एक्सप्रेस ने कहा, ‘ऑस्ट्रेलिया ने भारत को आज तगड़े अंदाज में फेंटा (झकझोर दिया है) लगाया है और यह फेंटा सदियों तक उनके दिमाग से निकलेगा नहीं. उन्होंने कहा कि मालूम नहीं चल रहा है कि आखिल हेजलवुड ने ऐसे कौन से गोले दाग दिए, जिस पर शानदार बैटिंग लाइन अप वाली भारतीय बल्लेबाजी ने घुटने टेक दिए.’

45 वर्षीय इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, ‘ऐसे शर्मनाक परफॉर्मेंस पर टीम की आलोचना जमकर होगी और होनी भी चाहिए. लेकिन भारतीय खिलाड़ियों को अब सोचना होगा कि वह कैसे कंगारुओं की इस चुनौती का जवाब देंगे. वैसे ऑस्ट्रेलिया ने बैकफुट से आकर मैच पर कब्जा जमाया है और अब वह हिंदुस्तान को वापसी का मौका देता नहीं दिखेगा. लेकिन भारतीय टीम को आलोचनाओं का सामना करते हुए इससे पार पाने का रास्ता ढूंढना होगा.’