India vs Australia 2020/21: भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में लगातार दो शतकीय पारी खेलने वाले ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी बल्लेबाज स्टीव स्मिथ (Steve Smith) ने अपनी सफलता के राज का खुलासा किया है. स्मिथ का कहना है कि उन्होंने अपनी बल्ले की ‘ग्रिप’ (पकड़) को हल्का सा बदलकर फॉर्म में वापसी की और वह नतीजों से काफी खुश भी हैं क्योंकि वह भारत के खिलाफ अपनी टीम के लिए लगातार शतकीय पारियां जड़ने में सफल रहे. Also Read - गाबा टेस्‍ट जीतने के बाद भी Navdeep Saini को एक टांग पर भगाते रहे थे Rishabh Pant, बयां किए मैच के बाद के पल

सीरीज शुरू होने से पहले स्मिथ ने चेताया था कि वह फॉर्म में वापसी कर चुके हैं. ऐसा उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL 2020) में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद किया जिसमें उन्होंने राजस्थान रॉयल्स की कप्तानी की जिम्मेदारी संभालते हुए 14 मैचों में सिर्फ 311 रन बनाए. Also Read - ICC Test Championship, Points Table: श्रीलंका को क्‍लीन स्‍वीप कर ENG ने बिगाड़ा समीकरण, टॉप-4 टीमों में महज 3 प्रतिशत का अंतर

स्मिथ ने सीरीज से पहले कहा था कि वह ‘अपने हाथों (की ग्रिप) को हासिल चुके हैं’ तो जब उनसे पूछा गया कि उनका क्या मतलब है तो उन्होंने कहा, ‘मैं भी इससे हैरान हो गया था.’ Also Read - मैं हर दिन बुरे वक्‍त की गरमाहट महसूस कर रहा था: रिषभ पंत

उन्होंने ‘फॉक्स क्रिकेट’ से कहा, ‘मुझे लगता है कि इतने वर्षों में मैंने दो तरह की अलग ‘ग्रिप’ अपनाई. जब मैं 2014 में और 2015 विश्व कप में अपनी सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी कर रहा था तो मेरा ऊपर का हाथ शायद थोड़ा नीचे बल्ले के पीछे के बीच से नीचे था.’

स्मिथ ने कहा, ‘पिछले दो वर्षों में मैं थोड़ा अलग ग्रिप से बल्लेबाजी कर रहा था.’ उनसे तब पूछा गया कि उन्होंने इस थोड़े बदलाव के फायदे को कैसे पता किया तो उन्होंने कहा, ‘ यह पहले मैच (27 नवंबर को SCG) से तीन दिन पहले हमारे पृथकवास के दौरान एक नेट सत्र के दौरान हुआ जिसमें मैंने फिर इसे (2014 और 2015 वाली ग्रिप) करना शुरू कर दिया.’

उन्होंने कहा, ‘मैंने वापस आकर 2014 और 2015 की काफी फुटेज देखी और मैंने इसकी कोशिश की और सबकुछ ठीक हो गया और मुझे अच्छा लगा. उम्मीद करता हूं कि यह अच्छी रखेगी.’

वनडे के बाद भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें 3 मैचों की टी20 सीरीज खेलेंगी. इसके बाद दोनों टीमों के बीच 17 दिसंबर से चार मैचों की टेस्ट सीरीज खेली जाएगी.