भारतीय टीम मैनेजमेंट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में एक बार फिर वापसी के लिए पूरा जोर लगाने की कोशिश में है. इस सप्ताह के अंत में दोनों टीमें बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच (IND vs AUS Boxing Day Test) की शुरुआत करेंगी. Also Read - इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के जरिए टेस्ट टीम में वापसी कर सकते हैं कुलदीप यादव; कोच-कप्तान ने दिए संकेत

भारतीय टीम में मौजूदा बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी (Border Gavaskar Trophy) में 0-1 से पिछड़ चुकी है. ऐसे में टीम मैनेजमेंट रविंद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) की टीम में वापसी पर फोकस कर रहा है. टीम मैनेजमेंट दूसरे टेस्ट से पहले जडेजा की फिटनेस पर करीबी नजर बनाए हुए है. अगर यह ऑलराउंडर फिट होता है तो फिर हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) की जगह ले सकता है. Also Read - ऑस्ट्रेलिया पर जीत के बाद कप्तान रहाणे ने कुलदीप यादव की तारीफ की; कहा- आपका टाइम आएगा

जडेजा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर सीमित सीरीज के दौरान पहले टी20i मैच में चोटिल हो गए थे. कैनबरा में बैटिंग के दौरान उनके हेल्मेट पर गेंद लगी थी और इससे पहले उनकी पैरों की मांसपेशियों में भी खिंचाव आया था. इसके कारण वह अंतिम 2 टी20i मैच और पहले टेस्ट से भी बाहर हो गए थे. टीम इंडिया को पहले टेस्ट में हार का सामना करना पड़ा और इस दौरान जडेजा ने नेट पर वापसी की. Also Read - भारतीय क्रिकेटरों के मुकाबले में अभी 'प्राइमरी क्लास' में हैं युवा ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी: ग्रेग चैपल

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के एक सीनियर सूत्र ने पीटीआई को बताया, ‘यह ऑलराउंडर खिलाड़ी चोट से बेहतर उबर रहा है. लेकिन अभी यह नहीं कहा जा सकता कि वह 26 दिसंबर (दूसरे टेस्ट) से पहले पूरी तरह फिट हो पाएगा या नहीं.’ टीम मैनेजमेंट से जुड़े इस सूत्र ने बताया कि अगर वह फिट होते हैं तो फिर हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) की जगह उन्हें शामिल किया जा सकता है.

बता दें हनुमा विहारी का प्लेइंग XI से बाहर होने का कारण एडिलेड में उनका खराब प्रदर्शन नहीं बल्कि कार्यवाहक कप्तान अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) और कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) द्वारा सह टीम कॉम्बिनेशन मैदान पर उतारना है.

सूत्र के मुताबिक, ‘अगर जडेजा लंबे स्पेल फेंकने के लिए फिट हो जाते हैं तो फिर बहस की कोई बात ही नहीं है. वह अपने ऑलराउंड कौशल के आधार पर विहारी की जगह लेंगे. साथ ही इससे हमारे पास मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) में पांच गेंदबाजों के साथ उतरने का विकल्प होगा.’

जडेजा ने 49 टेस्ट में 35 से अधिक की औसत से 1869 रन बनाए हैं, जिसमें 1 शतक और 14 अर्धशतक शामिल हैं. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के पिछले दौरों पर अर्धशतक जड़े थे. दूसरी ओर विहारी ने 10 टेस्ट में 576 रन बनाए हैं, जिसमें वेस्टइंडीज के खिलाफ शतक के अलावा 4 अर्धशतक शामिल हैं. उन्होंने 33 से अधिक की औसत से रन बनाए हैं.

लोगों का यह भी मानना है कि अगर बल्लेबाजी कौशल पर ध्यान दें तो भी ‘विशेषज्ञ विहारी’ और ‘ऑलराउंडर जडेजा’ में अधिक अंतर नहीं है. मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) कलाई में फ्रैक्चर के कारण पहले ही सीरीज से बाहर हो गए हैं और ऐसे में भारत 4 की जगह 5 विशेषज्ञ गेंदबाजों के साथ उतर सकता है. भारत को इस बीच सोमवार को एडिलेड ओवल में अभ्यास सत्र में हिस्सा लेना था लेकिन बारिश के कारण इसे रद्द करना पड़ा.