एडिलेड टेस्‍ट में शर्मनाक हार झेलने के बाद भारतीय टीम को अब दूसरे मुकाबले में मेलबर्न में बॉक्सिंग डे टेस्‍ट के दौरान मेजबान ऑस्‍ट्रेलिया का सामना करना है। कप्‍तान विराट कोहली की गैर मौजूदगी में टीम इंडिया को अब उपकप्‍तान अजिंक्‍य रहाणे के नेतृत्‍व में मैदान में उतरना है। पूर्व सलामी बल्‍लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि भारतीय टीम को हार को पीछे छोड़कर आगे के मैचों की ओर देखना चाहिए। Also Read - India vs Australia- अगर भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज ड्रॉ हुई तो यह पिछली हार से भी बुरी: Ricky Ponting

गौतम गंभीर ने कहा, भारतीय टीम एडिलेड में हार के बाद जरूर दुखी होगी लेकिन उसे यह नहीं भूलना चाहिये कि पहले टेस्ट के पहले दो सत्र में उसका दबदबा था। Also Read - IND vs AUS ब्रिसबेन टेस्ट: चोट से ऑस्ट्रेलिया भी हुआ परेशान, इस दिग्गज फास्ट बॉलर की हैम्स्ट्रिंग में खिंचाव

भारत ने एडीलेड टेस्ट में पहली पारी में 53 रन की बढ़त बनाई थी लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में उसे उसके न्यूनतम टेस्ट स्कोर 36 रन पर आउट करके आठ विकेट से जीत दर्ज की । Also Read - IND vs AUS: ब्रिसबेन टेस्ट में जीत चाहे भारत, इन 8 खिलाड़ियों से है 'आखिरी उम्मीद'

स्टार स्पोटर्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ पर बातचीत के दौरान गंभीर ने कहा ,‘‘ भारतीय टीम को याद रखना चाहिये कि पहले दो दिन उसका दबदबा था। पहले दो दिन मैच पर उसकी पकड़ थी।’’

‘‘ एक सत्र को लेकर वे दुखी होंगे लेकिन उन्हें याद रखना होगा कि अभी तीन टेस्ट मैच खेले जाने हैं और उनके पास उनका सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली नहीं है।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ अजिंक्य रहाणे पर काफी दारोमदार रहेगा । मोहम्मद शमी भी टीम में नहीं है और देखना होगा कि टीम संयोजन कैसा रहता है।’’

इससे पहले गंभीर ने कहा था कि भारत को पांच गेंदबाजों को लेकर उतरना चाहिये और रहाणे को चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करनी चाहिये। उन्होंने अंतिम एकादश में केएल राहुल, ऋषभ पंत और शुभमन गिल को शामिल करने की भी पैरवी की थी।