भारतीय टीम के तेज गेंदबाजों ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन करते हुए बांग्लादेश के बल्लेबाजों को इंदौर टेस्ट मैच के पहले दिन खूब परेशान किया। होल्कर स्टेडियम में खेले जा रहे इस मैच में पहले दिन के पहले सेशन का खेल खत्म होने तक मेहमान टीम ने 63 रन बनाकर अपने तीन विकेट खो दिए हैं।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करने वाली बांग्लादेश के बल्लेबाजों को ईशांत शर्मा और उमेश यादव की गेंदों को समझने में ही मुश्किल हो रही थी। तीन ओवर तक बांग्लादेश का खाता भी नहीं खुला था।

शादमान इस्लाम और इमरूल काएस की सलामी जोड़ी को गेंद को बल्ले के बीचों-बीच लेने में ही परेशानी हो रही थी। इसी जद्दोजहद में यादव ने काएस को पहली स्लिप पर अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच करा भारत को पहली सफलता दिलाई। कायेस ने 18 गेंदों छह रन बनाए और वह टीम के 12 रन के कुल स्कोर पर आउट हुए।

पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम का ऐलान, कैमरून बैनक्रॉफ्ट की वापसी

ईशांत ने भी अगले ओवर में अपनी मेहनत को सार्थक किया। उन्होंने शादमान को विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया। इस समय भी टीम का स्कोर 12 था और शादमान भी छह रन बनाकर पवेलियन लौट रहे थे। उन्होंने 24 गेंदों का सामना किया।

कप्तान मोमिनुल हक और मोहम्मद मिथुन ने की जोड़ी के सामने टीम को खराब शुरुआत से बाहर निकालने की जिम्मेदारी थी, लेकिन यह जोड़ी सिर्फ 19 रन ही जोड़ सकी। विराट कोहली ने गेंदबाजी में बदलाव किया और मोहम्मद शमी ने 31 के कुल स्कोर पर मोहम्मद मिथुन को आउट कर बांग्लादेश को तीसरा झटका दिया। मिथुन ने 36 गेंदों पर 12 रन बनाए।

यादव ने बांग्लादेश के मुख्य बल्लेबाज मुश्फीकुर रहीम को भी पवेलियन भेज दिया था लेकिन कप्तान कोहली उनका कैच पकड़ने से चूक गए। लंच तक कप्तान मोमिनुल 22 और रहीम 14 रन बनाकर खेल रहे हैं।