बांग्लादेश (Bangladesh) के जो बल्लेबाज दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में भारत (Team India) के खिलाफ पहली टी20 अंतरराष्ट्रीय जीत के नायक थे, वो ही राजकोट में हार के दोषी बन गए। बांग्लादेश टीम भारत के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करते हुए 153 रन बना सकी। जिस लक्ष्य को भारत ने कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की अर्धशतकीय पारी की मदद 15.4 ओवर में हासिल कर 8 विकेट से जीत हासिल की।

सौरष्ट्र क्रिकेट स्टेडियम में भारत के खिलाफ दूसरे मैच में मिली हार के लिए कप्तान महमदुल्लाह ने मध्यक्रम के बल्लेबाजों को जिम्मेदार ठहराया। भारत की स्पिन जोड़ी युजवेंद्र चहल और वाशिंगटन सुंदर ने बीच के ओवरों में रन गति पर अंकुश लगाकर बांग्लादेश को अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठाने दिया और उसकी टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए छह विकेट पर 153 रन ही बना पाई।

महमुदुल्लाह ने मैच के बाद कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि हमें बहुत बदलाव की जरूरत है लेकिन कुछ विभाग हैं, खासकर बल्लेबाजी में, जिनमें सुधार की जरूरत है। हम लय बरकरार नहीं रखे पाए। हमें 170 रन का स्कोर बनाना चाहिए था। हमने 12 ओवर के बाद 102-103 रन बनाए थे इसलिए हमें 170-180 रन तक पहुंचना चाहिए था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने बीच के ओवरों में विकेट गंवाने का खामियाजा भुगता और इस पर हमें गौर करने की जरूरत है। सलामी बल्लेबाजों ने हमें बहुत अच्छी शुरुआत दिलाई थी और इस विकेट पर 180 रन का स्कोर बन सकता था। विकेट बल्लेबाजी के लिए बहुत अच्छा था।’’

हार के बाद बांग्लादेशी कप्तान ने कहा- इस पिच पर 180 रन पर्याप्त होते

बांग्लादेश के कप्तान ने कहा, ‘‘हमें खेल की लय को समझने की जरूरत थी। हमें एक निश्चित समय में मिलने वाली चुनौती को समझना चाहिए था लेकिन हम ऐसा नहीं कर पाए और बड़ा स्कोर नहीं बना सके।’’

महमुदुल्लाह ने हार के लिए बल्लेबाजों को दोषी ठहराया जो बल्लेबाजी के लिए अनुकूल विकेट पर बड़ा स्कोर नहीं बना पाए। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि अगर टी20 में आप 40 से अधिक गेंदे खाली छोड़ते हो तो आपकी जीत की संभावना कम हो जाती है। हमने 38 गेंदों पर रन नहीं बनाये। इसमें सुधार करना होगा। हमारे बल्लेबाजों को अधिक जिम्मेदारी लेनी होगी। हमारा लक्ष्य बड़ा स्कोर बनाना था लेकिन हम ऐसा नहीं कर पाये। ये हमारे बल्लेबाजों की नाकामी थी।’’

टी20 फॉर्मेट में स्पिन गेंदबाजों की भूमिका काफी अहम होती है : वाशिंगटन सुंदर

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने 43 गेंदों पर 85 रन बनाकर मैच को एकतरफा कर दिया था। इससे भारत ने आठ विकेट से जीत दर्ज करके तीन मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर करायी। महमुदुल्लाह ने कहा, ‘‘जब रोहित अपनी लय में होते हैं तो उन्हें रोकना मुश्किल होता है लेकिन अगर हमने 175 से अधिक का स्कोर बनाया होता तो हमारी जीत की संभावना रहती।’’