भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली पिछले कुछ वर्षों से क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. कोहली ने बांग्लादेश के खिलाफ कोलकाता के ईडन गार्डंस में जारी पहले डे-नाइट टेस्ट मैच के दूसरे दिन टेस्ट करियर का 27वां शतक लगाया.

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली बोले- शाम को लाल गेंद के मुकाबले पिंक बॉल को देखना…

कोहली की पिंक बॉल के खिलाफ पहला शतक है. विराट की इस पारी को देख दिग्गजों ने उनकी जमकर सराहना की है. टीम इंडिया के पूर्व कोच अंशुमन गायकवाड का कहना है कि रन तो कई बल्लेबाज बनाते हैं लेकिन विराट कोहली जैसी निरंतरता किसी में नहीं है.

गायकवाड ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, ‘मुझे लगता है कि यह उनके लिए काफी आसान है. मैंने गेंद से कुछ बड़ा होते नहीं देखा. विराट अलग तरह के खिलाड़ी हैं. सबसे अहम उनकी निरंतरता है. आप रोहित शर्मा की तरह शतक बना सकते हो, दोहरे शतक लगा सकते हो लेकिन फिर ब्रेक आता है, लेकिन विराट ब्रेक नहीं लगाते.’

शेन वॉर्न को टीम इंडिया की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में डे-नाइट टेस्ट खेलने की उम्मीद

कोहली ने पहली पारी में 136 रन बनाए. बकौल गायकवाड, ‘ इस स्तर पर आप गेंदबाज हों या बल्लेबाज, यह तैराकी की तरह है. अगर आप छह महीने नहीं तैरेंगे और फिर आपको पानी में फेंक दिया जाएगा, अगर आप तैरना जानते हो तो आप तैर लोगे. विराट के साथ भी यही है. उन्होंने अभी ब्रेक लिया था जो उनके लिए अच्छा साबित हुआ और उन्हें इसकी जरूरत थी. अब उन्होंने मजबूती से वापसी की है. उनकी तरह के लोग सचिन तेंदुलकर की तरह ही महान होते हैं.’