बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) के अध्यक्ष नजमुल हसन (Nazmul Hassan) का मानना है कि कुछ लोग भारत-बांग्‍लादेश (India vs Bangladesh) सीरीज में अड़चन डालने की कोशिश कर रहे हैं.

पड़ोसी देश के खिलाड़ियों ने हाल में वेतन वृद्धि  के लिए हड़ताल कर दी थी. जिसके कारण टीम का भारत दौरा खटाई में पड़ गया था। बोर्ड द्वारा मांगों को स्‍‍‍‍वीकार कने के बाद खिलाड़ियों ने हड़ताल वापस ली.

पढ़ें:- AUSvsSL: मिशेल स्‍टार्क ने दूसरे टी20 मुकाबले से बनाई दूरी, ये है वजह

BCB चीफ ने स्‍थानीय अखबार ‘प्रोथोम आलो’ से कहा, “मैं कह रहा हूं कि मुझे इस बात की पक्की जानकारी है कि भारत दौरे को रद्द करने के लिए ये एक साजिश थी, तो आपको इस बात पर भरोसा करना होगा.”

बांग्लादेश के कुछ खिलाड़ियों ने भारत दौरे से खुद को अलग रखने का फैसला किया है. इनमें जहां तमीम इकबाल (Tamim Iqbal) दूसरी बार पिता बनने के कारण भारत दौरे पर नहीं जा पाएंगे तो वहीं कुछ खिलाड़ी चोटिल भी हैं. ”
तमीम ने पहले एक ही टेस्ट मैच से हटने का फैसला किया था, लेकिन अब वह पूरे दौरे से बाहर हो गए है.”

नजमुल हसन ने साफ किया, “तमीम ने पहले मुझसे कहा था कि वो सिर्फ दूसरा टेस्ट मैच (कोलकाता- 22 से 26 नवंबर) नहीं खेल पाएंगे क्योंकि इस दौरान वह दूसरी बार पिता बनेंगे. हालांकि खिलाड़ियों के साथ हुई बैठक के बाद वह मेरे कमरे में आए और उन्होंने मुझसे कहा कि वह पूरे दौरे से हटना चाहते है. जब मैंने उनसे पूछा कि ऐसा क्यों तो वह बोले कि वह नहीं जाना चाहते.”

पढ़ें:- BCCI अध्‍यक्ष बनने के बाद NCA अध्‍यक्ष राहुल द्रविड़ से मिलेंगे दादा, ये है मीटिंग का एजेंडा

बीसीबी प्रमुख ने कहा कि कुछ और खिलाड़ी भी इस दौरे से अपना नाम वापस ले सकते हैं. “अब  आखिरी वक्त में जब हमारे पास कोई विकल्प नहीं है, अगर मुझे पता चले कि किसी अन्य खिलाड़ी ने भी दौरे से अपना नाम वापस ले लिया है तो मुझे बिल्कुल भी हैरानी नहीं होगी.”

“मैंने फोन लगाकर शाकिब (Shakib Al Hasan) से भी बात की थी. इसके बाद भी अगर वह हट जाते है तो मैं कहां से नया कप्तान लाऊंगा. शायद ऐसे में मुझे पूरी टीम का संयोजन बदलना होगा. मैं इन खिलाड़ियों के साथ कर भी क्या सकता हूं.”

हसन ने कहा, “मैं उनसे रोजाना बात करता हूं, लेकिन फिर भी हड़ताल पर जाने से पहले उन्होंने इसके बारे में इशारा तक नहीं किया. मुझे लगता है कि उनकी मांगों को मानकर मैंने एक गलती कर दी. मुझे ऐसा कभी नहीं करना था.”