इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर लॉर्ड्स में मिली भारत के खिलाफ (India Tour of England) अपनी टीम की हार से निराश हैं. कई पूर्व खिलाड़ियों का मानना है कि मेजबान टीम ने जिस तरह अपनी भावनाओं को काबू न रखकर यह टेस्ट मैच अपनी मुट्ठी में आने के बाद गंवाया है. वह उसे पूरी सीरीज में अब परेशान करता रहेगा. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एंड्र्यू स्ट्रॉस (Andrew Strauss) का मानना है कि टीम जिस ढंग से यहां हारी है अब 5 मैच की इस सीरीज में उसे इसकी टीम बाकी बचे 3 मैचों में भी रहेगी.Also Read - कोविड 19 से उबरे Ravi Shastri, Bharat Arun और R. Sridhar, लेकिन भारत लौटने से पहले चाहिए यह सर्टीफिकेट

लॉर्ड्स टेस्ट में मैच पर पकड़ बनाने के बाद इंग्लैंड की टीम आखिरी दिन 151 रन से हार गई. स्ट्रॉस ने ‘स्काई स्पोर्ट्स’ से कहा, ‘वे जीत के करीब थे लेकिन आखिरी दिन लंच से पहले मैच उनकी गिरफ्त से निकल गया. शीर्षक्रम एक बार फिर चरमरा गया.’ Also Read - मार्क टेलर ने टेस्‍ट क्रिकेट के भविष्‍य पर जताई चिंता, 'Virat-Shastri जैसे लोगों की वजह से है जिंदा'

उन्होंने कहा, ‘इससे मध्यक्रम पर दबाव बना और भारत के पास उन्हें आउट करने के लिए काफी ओवर थे.’ उन्होंने कहा, ‘भारत के साथ और खासकर विराट कोहली (Virat Kohli) के साथ कोई भी सीरीज प्रतिस्पर्धी होती है. उन्होंने पांच दिन जबर्दस्त टेस्ट क्रिकेट खेली.’ Also Read - Dawid Malan ने माना भारतीय तेज बैट्री का लोहा, 'इस गेंदबाजी की आदत डाल पाना है असंभव'

स्ट्रॉस ने कहा, ‘भारत इस जीत का हकदार था. उन्होंने जीतने के लिए पूरा प्रयास किया. इंग्लैंड की टीम को इस हार की टीस लंबे समय तक रहेगी.’ उन्होंने इंग्लैंड के शीर्षक्रम में भी बदलाव की मांग की. इंग्लैंड के टेस्ट इतिहास में पहली बार घरेलू टेस्ट की किसी एक पारी में दोनों सलामी बल्लेबाज खाता खोले बिना आउट हुए.

स्ट्रॉस ने कहा, ‘इंग्लैंड के सामने काफी समस्याएं हैं. डोम सिबली फॉर्म में नहीं हैं. ओली पोप की वापसी जरूरी है लेकिन क्या उन्हें तीसरे नंबर पर उतारने का सही समय है. इन सभी सवालों के हल ढूंढने होंगे.’