पांच टेस्ट मैचों की सीरीज (India vs England Test Series) शुरू होने में अब सिर्फ दो दिन का समय बचा है. डरहम में प्रैक्टिस मैच और अपने कई प्रैक्टिस सेशन पूरे करने के बाद टीम इंडिया (Team India) नॉटिंघम पहुंच चुकी है. बुधवार से यहां ट्रेंट ब्रिज मैदान (IND vs ENG Trent Bridge Test) पर दोनों टीमें इस बहुप्रतीक्षित टेस्ट सीरीज का आगाज करने उतरेंगी.Also Read - Highlights RCB vs MI, IPL 2021: हर्षल पटेल की हैट्रिक से जीता बैंगलोर, 7वें स्‍थान पर खिसका बैंगलोर

इस टेस्ट मैच से पहले भारतीय खिलाडियों और टीम मैनेजमेंट की निगाह पिच पर पड़ी, तो उन्हें अपनी आने वाली चुनौती का अहसास बखूबी हो गया होगा. बीसीसीआई ने अपने एक ट्वीट में पिच की एक तस्वीर पोस्ट की है. इस तस्वीर में इस पिच पर पूरी तरह हरी घास नजर आ रही है, जो तेज गेंदबाजों को स्विंग और सीम में मदद करेगी. Also Read - NZ का अपराध माफी योग्‍य नही, Shahid Afridi बोले- भारत के पीछे-पीछे ना चलें पढ़े-लिखे देश

जाहिर तौर पर अगर बाकी के बचे दो दिन भी इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) के पिच क्यूरेटर पिच से घास को कम नहीं करते हैं तो पहले मैच में गेंदबाज बल्लेबाजों पर हावी होते दिखेंगे. हालांकि भारतीय टीम के बल्लेबाज जरूर पिच को लेकर चिंतित हो सकते हैं लेकिन भारतीय तेज गेंदबाजी विभाग इससे उत्साह में जरूर होगा. Also Read - टी20 फॉर्मेट में 10,000 रन पूरे करने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने विराट कोहली

भारत के पास इस वक्त दुनिया का सर्वश्रेष्ठ फास्ट बॉलिंग अटैक मौजूद है. अगर नॉटिंघम के पिच क्यूरेटर दोनों टीमों के सामने यह हरी घास वाली पिच ही रखना चाहेंगे तो फिर टॉस जीतने वाली टीम यहां पहले फील्डिंग करना पसंद करेगी. भारत के पास पर्याप्त पेस अटैक है, जिसमें वह इस मैच में 4-1 के कॉम्बिनेशन के साथ उतर सकता है.

भारतीय टीम के पास मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, जसप्रीत बुमराह के अलावा उमेश यादव और मोहम्मद सिराज उपलब्ध हैं. पहले टेस्ट में शमी, इशांत और बुमराह का खेलना तो तय है लेकिन यह देखना दिलचस्प होगा कि अगर भारत एकमात्र स्पिनर के रूप में रविचंद्र अश्विन को चुनता है तो फिर चौथे तेज गेंदबाज के तौर पर किसे टीम में जगह मिलेगी. क्या उमेश यादव के अनुभव को जगह मिलेगी या फिर युवा जोशीले मोहम्मद सिराज को तरजीह मिलेगी.

इससे पहले टीम इंडिया साउथेम्प्टन में विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) फाइनल के तीन सप्ताह के ब्रेक के बाद, भारतीय टीम का 20-22 जुलाई तक काउंटी सिलेक्ट इलेवन के खिलाफ अभ्यास मैच था. उसके बाद, भारतीय टीम ने डरहम के चेस्टर-ले-स्ट्रीट मैदान में शुक्रवार को अपने अंतिम प्रशिक्षण सत्र तक अभ्यास जारी रखा.