नई दिल्ली. भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज की सरगर्मी बढ़ने की वैसे तो कई वजहें हैं लेकिन सबसे बड़ी वजह विराट कोहली और जेम्स एंडरसन हैं. इन दो खिलाड़ियों के बीच होने वाली बल्ले और गेंद की तकरार है. टीम इंडिया के कप्तान कोहली को एंडरसन से 2014 दौरे का हिसाब लेना है तो वहीं एंडरसन की कोशिश फिर से 4 साल पहले वाली वही कहानी दोहराने का है. 2014 के इंग्लैंड दौरे पर 5 टेस्ट की 10 पारियों में विराट का औसत सिर्फ 13.4 का रहा था. इन 10 पारियों में से 6 पारियों में वो तेज गेंदबाजों का शिकार बने थे, जिसमें 4 बार एंडरसन ने उन्हें आउट किया था. बहरहाल, 2014 से 2018 के बीच इन दो खिलाड़ियों में काफी कुछ बदला है. विराट टीम इंडिया के जिम्मेदार कप्तान बन गए हैं. बतौर बल्लेबाज वो इतने काबिल हो चुके हैं कि उनकी गिनती मौजूदा क्रिकेट के चुनिंदा बल्लेबाजों में होने लगी है. वहीं दूसरी ओर एंडरसन इंग्लैंड के दूसरे सबसे ज्यादा टेस्ट खेलने वाले खिलाड़ी बन गए हैं. यही नहीं वो इंग्लैंड के सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाज भी बन चुके हैं. इंग्लैंड में वैसे ही तेज गर्मी पड़ रही है. ऐसे में जब ये दोनों खिलाड़ी भी आमने-सामने होंगे तो अगस्त में आग लगनी तय है. Also Read - RCB के खिलाफ मैच में खास जूते पहनकर उतरे थे कप्तान रोहित शर्मा; जानें क्या था कारण

Also Read - IPL 2021: कप्तान कोहली ने कहा- फ्रेंचाइजी की जरूरत को अच्छे से समझते हैं हर्षल पटेल

विराट ने ऑस्ट्रेलिया में ठोके 4 शतक Also Read - IPL 2021- MI vs RCB: इन 5 वजहों से रॉयल चैलेंजर्स ने मुंबई इंडियंस को दी मात

2018 की टेस्ट सीरीज में विराट और एंडरसन की जंग कितनी दिलचस्प होने वाली है उसे समझने के लिए इन दो खिलाड़ियों के पिछले 4 साल के ट्रैक रिकॉर्ड को देखना होगा. पिछले 4 सालों में कोहली ‘विराट’ बल्लेबाज कैसे बनें सबसे पहले ये समझिए. इंग्लैंड दौरे पर एंडरसन के खिलाफ नाकामी झेलने के बाद विराट कोहली 2014-15 में ही ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गए और वहां उन्होंने एक ही सीरीज में 4 शतक ठोक डाले. इसके बाद विराट ने गॉल में श्रीलंका के खिलाफ भी शतक लगाया.

सर्वाधिक 6 दोहरे शतक जड़ने वाले बने कप्तान

साल 2016 में विराट ने और भी विकराल तेवर अख्तियार कर लिए. वेस्टइंडीज दौरे पर एंटीगा टेस्ट में उन्होंने अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक जड़ा. साल खत्म होते-होते विराट ने न्यूजीलैंड और फिर इंग्लैंड के खिलाफ भी दोहरा शतक लगा डाला. 2017 में विराट कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ 2 दोहरा शतक और बांग्लादेश के खिलाफ भी 1 दोहरा शतक लगाया. इसके बाद वो टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा 6 दोहरे शतक लगाने वाले कप्तान बन गए. 2014 में हुए इंग्लैंड दौरे के बाद से विराट कोहली की बल्लेबाजी का रिकॉर्ड देखें तो वो 37 टेस्ट में 15 शतक और 7 अर्धशतक अब तक लगा चुके हैं. इन 15 शतकों में उनके 6 दोहरे शतक भी शामिल हैं.

स्मिथ को पछाड़ नंबर 1 बन सकते हैं कोहली, रैकिंग में होगा बड़ा फेरबदल

2014 सीरीज के बाद एंडरसन

दूसरी ओर, जेम्स एंडरसन में 2014 में भारत के इंग्लैंड दौरे पर खेले 5 टेस्ट में 25 विकेट चटकाए थे और वो सीरीज के सबसे सफल गेंदबाज रहे थे. उस जबरदस्त सफलता के बाद से लेकर अब तक एंडरसन 39 टेस्ट खेल चुके हैं और कुल 160 विकेट झटक चुके हैं. इनमें उनके वो 4 विकेट भी शामिल हैं, जो उन्होंने भारत दौरे पर लिए थे. 2014 की भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के बाद से एंडरसन ने इंग्लैंड में 20 टेस्ट खेले हैं और 96 विकेट हासिल किए हैं.

ICC रैंकिंग में भी छाए विराट-एंडरसन

प्रदर्शन के लिहाज से देखा जाए तो बीते 4 सालों के दौरान न तो विराट कम पड़े हैं और न ही एंडरसन फीके. बल्कि, दोनों ही खिलाड़ी ढलते वक्त के साथ और भी दमदार होते गए हैं और इसका असर इन दोनों की हालिया टेस्ट रैंकिंग पर भी दिखता है. ICC की ताजा टेस्ट रैंकिंग में विराट जहां दुनिया के नंबर 2 टेस्ट बल्लेबाज हैं वहीं जेम्स एंडरसन नंबर 1 टेस्ट गेंदबाज की हैसियत से मैदान पर उतरेंगे. अब देखना ये है कि टेस्ट के जब ये दो बेस्ट महारथी भिड़ते हैं तो 4 साल पुरानी स्क्रिप्ट बदलती है या फिर कहानी रिपीट होती है.